पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी पर धर्म के आधार पर देश को बांटने की कोशिश करने का आरोप लगाते हुए छात्रों से बिना किसी भय के नागरिकता संशोधन कानून (सीसीए) का विरोध जारी रखने का आग्रह किया।


बनर्जी ने यहां सीएए और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध में आयोजित एक महारैली को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने भाजपा नीत राज्य सरकारों पर छात्रों का उत्पीडऩ करने और धर्म के आधार पर देश को बांटने का प्रयास करने का भी आरोप लगाया।


मुख्यमंत्री ने कहा, 'जब तक एनआरसी और सीएए को वापस नहीं लिया जाता है, हमारा शांतिपूर्ण विरोध जारी रहेगा। हम महात्मा गांधी के शांतिपूर्ण विरोध के विचार के समर्थक हैं।' बनर्जी ने कहा, 'भाजपा नीत कई राज्यों में प्रदर्शनकारियों को मारा गया है। कर्नाटक में प्रदर्शन के दौरान मारे गये लोगों के परिजनों को आर्थिक मदद से राज्य सरकार मुकर गई। अगर आप कोई वायदा करते हैं तो आपको उसे पूरा करना चाहिए। वे लोग झूठे हैं।'


उन्होंने कहा, 'भाजपा के एक नेता ने कहा कि प्रदर्शन करने वाले गुंडें हैं। क्या यह लोकतंत्र है? लोकतंत्र के लिए यह लोगों का आंदोलन है, दंगाबाजों का आंदोलन नहीं है। अगर कोई हमारा अधिकार छीनने की कोशिश करता है तो हम अंतिम सांस तक लड़ाई करेंगे। इंडियन नेशनल तृणमूल ट्रेड यूनियन कांग्रेस (आईएनटीटीयूसी) का एक प्रतिनिधमंडल प्रदर्शन के दौरान मारे गये लोगों के परिजनों से मिलने के लिए कर्नाटक जायेगा और उन्हें आवश्वासन देगा कि दुख की इस घड़ी में हम उनके साथ हैं। हम मानवता, लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता की विचारधारा में विश्वास करने वाले लोग हैं।'


मुख्यमंत्री ने कहा, 'यह सरकार छात्रों तक का उत्पीडऩ कर रही है। मैंने सुना है कि दिल्ली में छात्रों के सभी होस्टल बंद कर दिये गये हैं। वे आंदोलन से डर गये हैं।' उन्होंने कहा, 'मैं छात्रों से आग्रह करती हूं कि वे डरे नहीं। वे देश के मतदाता हैं। विरोध प्रदर्शन करने का उनको हक है। उन्हें कोई रोक नहीं सकता।'


बनर्जी ने कहा, 'वे कहते हैं कि प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कदम उठाया जायेगा। कानून हमारे पास भी है। हम उन्हें चेतावनी दे रहे हैं। कई राज्यों में गैर भाजपाई सरकारें है। अगर वे भी भाजपा के साथ ऐसा ही करने लगी तो इससे वे लोग(भाजपा) समस्या में पड़ जायेंगे।'


उन्होंने कहा, 'वे रोटी-कपड़ा-मकान नहीं दे सकते, केवल भाषण देते हैं। वे प्रदर्शन के दौरान हिंसा फैलाने के लिए पैसा देकर लोगों को भेजते हैं। हमें सावधान रहना होगा। अगर लोगों का सरकार से विश्वास उठ जायेगा तो वे लोग सत्ता में नहीं रह सकते हैं। अगर आप भाजपा में शामिल होगें तो आपको बड़ी रकम दी जायेगी और अगर इनकार कर दिया तो वे आपको जेल भेज देंगे। वे हिंसा को बढ़ावा देने के लिए फर्जी वीडियो दिखा रहे हैं और अफवाहें फैला रहे हैं।' मुख्यमंत्री ने दोहराया, 'आप लोग सावधान रहें और शांतिपूर्ण प्रदर्शन करें।'