मध्य प्रदेश के देवास जिले के नेमावर में एक ही परिवार के 5 लोगों की हत्या कर उन्हें खेत में 8 फीट का गड्ढा खोदकर सभी को एक साथ दफनाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है.

 इस वारदात में जो वजह सामने आई है वो और भी चौंकाने वाली है, एक युवक का इस परिवार की लड़की के साथ प्रेम प्रसंग था, जब उसकी शादी हो रही थी तो युवती रुकावट बनने लगी. तभी उसने प्रेमिका समेत उसके परिवार के 5 लोगों को मौत के घाट उतार दिया और फिर खेत में गहरा गड्ढा करके सभी को एक साथ दफन कर दिया. 

13 मई को नेमावर बस स्टैंड के पीछे किराए के मकान में रहने वाले परिवार के गायब होने की सूचना उनकी पीथमपुर में रहने वाली लड़की भारती ने दर्ज करवाई थी. पुलिस ने जांच की और 5 लोगों को हिरासत में लिया.

पुलिस ने सूचना के आधार पर नेमावर निवासी हुकुम सिंह चौहान के आत्माराम बाबा मेला मार्ग स्थित खेत में हाली (खेतिहर मजदूर) का काम कर रहे व्यक्ति को थाने लाकर सख्ती से पूछताछ की तो उसने खेत मालिक के पोते 25 वर्षीय सुरेंद्र पुत्र लक्ष्मण सिंह चौहान व उसके छोटे भाई भुरू के संबंध में जानकारी दी. 

इसके बाद दोनों को थाने लाकर सख्ती से पूछताछ की तो दोनों टूट गए और पांचों गुमशुदा के शव खुद के खेत में गड्ढा खोदकर गाडऩे की बात कही. पुलिस ने जेसीबी से खुदाई करवाई और नगर परिषद के सफाई कर्मियों की मदद से गड्ढे की मिट्टी निकालकर ममताबाई, 21 वर्षीय रूपाली पुत्री मोहनलाल, 14 वर्षीय दिव्या पुत्री मोहनलाल, 15 वर्षीय पूजा पुत्री रवि ओसवाल, 14 वर्षीय वन पुत्र रवि ओसवाल के शव बरामद किए. महिला का पति मोहनलाल कास्ते पीथमपुर में काम करता है. ग्रामीण एएसपी सूर्यकांत शर्मा ने बताया कि पुलिस लगातार सभी को ढूंढने में जुटी हुई थी. उसी के परिणाम स्वरूप शव बरामद हुए हैं.

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक ममता देवी की बहन के दो बच्चे भी लापता थे. बहन इंदौर में रहती है. प्रारंभिक तौर पर यह सामने आया है कि रूपाली के साथ सुरेंद्र का मिलना- जुलना था. सुरेंद्र की कहीं और शादी होने वाली थी, जिस पर रूपाली ने आपत्ति ली थी. इस पर सुरेंद्र ने साथियों के साथ मिलकर हत्या कर शवों को खेत में दफना दिया.