काफी दिनों से स्थिर चल रहे पेट्रोल और डीजल के दाम आम आदमी को बड़ा झटका देने जा रहे हैं। क्योंकि थोक यूजर्स के लिए डीजल की कीमतें 25 रूपये प्रति लीटर तक बढ़ गई हैं। हालांकि, फिलहाल रिटेल कस्टमर्स के लिए कीमतें नहीं बढ़ी हैं। ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने बल्क यूजर्स के लिए डीजल के दाम में 25 रुपये प्रति लीटर का इजाफा कर दिया है।

यह भी पढ़ें : सिक्किम में चला प्लास्टिक के खिलाफ सख्त अभियान, लोगों की पहली पसंद बनी बांस की बोतल

दिल्ली में बल्क यूजर्स के लिए डीजल की कीमत 115 रुपये पर पहुंच गई है। वहीं, पेट्रोल पंपों पर डीजल 86.67 रुपये प्रति लीटर की दर से बिक रहा है। मुंबई में बल्क यूजर्स को बेचे जा रहे डीजल का दाम बढ़कर 122.05 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच गया है, जबकि पेट्रोल पंपों पर बिक रहे डीजल का दाम 94.14 रुपये प्रति लीटर पर है।

डिफेंस, रेलवे एंड ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन, पावर प्लांट, सीमेंट प्लांट और केमिकल प्लांट मुख्य बल्क कस्टमर्स में शामिल हैं। ऑयल मार्केटिंग कंपनियां ज्यादा वॉल्यूम में तेल की खपत वाले ग्राहकों की जरूरतों को अलग से Cater करती हैं। कंपनियां इन कस्टमर्स के लिए ऑयल के स्टोरेज और हैंडलिंग के लिए खास तौर पर व्यवस्था करती हैं।

यह भी पढ़ें : अरूणाचल की बेटियों ने किया नाम रोशन, राष्ट्रीय राफ्टिंग चैंपियनशिप में जीता सिल्वर

दुनियाभर में तेल और ईंधन के दाम में काफी तेजी देखने को मिली है। इसके बावजूद पीएसयू ऑयल कंपनियों ने रिटेल ग्राहकों के लिए चार नवंबर, 2021 के बाद से पेट्रोल और डीजल के दाम में इजाफा नहीं किया है।

पेट्रोल पंप पर ईंधन की बिक्री में इस महीने इजाफा हुआ है। इसकी वजह ये है कि बस ऑपरेटर्स और मॉल्स जैसे बल्क यूजर्स ऑयल कंपनियों से सीधे तेल ऑर्डर करने के बजाय पेट्रोल पंप से फ्यूल खरीद रहे हैंअ इससे रिटेलर्स का घाटा और बढ़ गया है।

इस मामले से सीधे तौर पर अवगत तीन सूत्रों ने कहा कि Nayara Energy, Jio-bp और Shell जैसे प्राइवेट रिटेलर्स को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। ऐसे में 136 दिनों से स्थिर रेट पर पेट्रोल, डीजल बेचने की तुलना में पंप बंद करना कंपनियों को ज्यादा व्यवहारिक विकल्प लग रहा है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 2008 में देशभर में अपने 1,432 पेट्रोल पंप बंद कर दिए थे। इसकी वजह ये है कि कंपनी की सेल बिल्कुल Nil हो गई थी क्योंकि कंपनी पब्लिक सेक्टर कंपनियों द्वारा रियायती दरों पर बेचे जा रहे तेल के रेट को मैच नहीं कर पा रही थी। खबर है कि बल्क यूजर्स के पेट्रोल पंपों से ईंधन खरीदने से ये स्थिति एक बार फिर से पैदा हो सकती है।