डीजल और पेट्रोल की कीमतें (Diesel and petrol prices)  आसमान छू रही हैं। इस महंगाई का भी कुछ लोग फायदा उठाने की फिराक में हैं। रविवार को मध्य प्रदेश के बालाघाट में लोगों को अखबारों में (people got pamphlets in newspapers in Balaghat) पैंफलेट मिले। इन पैंफलेटों में लिखा था कि पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र के गोंदिया (pamphlets that petrol and diesel are getting cheaper by four rupees) जिले में पेट्रोल और डीजल चार रुपए सस्ता मिल रहा है। सिर्फ इतना ही नहीं, इसमें यह भी लिखा था कि अगर लोग वहां से डीजल-पेट्रोल भराते हैं तो अपने वाहन के पहियों में ( nitrogen will be filled free of cost in the wheels of their vehicle) नाइट्रोजन मुफ्त भरी जाएगी। 

लोगों को लुभाने की कोशिश

मध्य प्रदेश का बालाघाट और महाराष्ट्र का गोंदिया जिला की सीमा एक दूसरे से लगी हुई है। दोनों जिलों की दूरी करीब 45 किलोमीटर है। बालाघाट के देवटोला इलाके के पेट्रोल पंप मालिक अशोक बजाज ने कहा कि बालाघाट में पेट्रोल की कीमतें 120.42 रुपए प्रति लीटर पहुंच गई हैं। वहीं डीजल की कीमतें 109.69 रुपए हैं। अगर महाराष्ट्र के गोंदिया जिले की बात करें तो यहां पर पेट्रोल 116.29 रुपए प्रति लीटर और डीजल 105.72 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है। अखबारों में जो हिंदी पैंफलेट आया है, उसमें गोंदिया के जय स्तंभ चौक के पास स्थित गौरीशंकर एंड संस का नाम लिखा हुआ है। इसके जरिए यहां पर सस्ते पेट्रोल और डीजल के दाम प्रति लोगों को लुभाने की कोशिश की जा रही है। 

बिजनेस हो रहा है प्रभावित

अशोक बजाज ने कहा कि दोनों राज्यों में तेल की कीमतों में अंतर के चलते पहले ही बिजनेस बदहाल है। इन सबके बीच इस तरह के पर्चे और बॉर्डर पर लगे होर्डिंग और बैनर और ज्यादा मुसीबत बढ़ाएंगे। समाचार एजेंसी मालिक रमेश बवानकर ने कहा कि रविवार को शहर में ऐसे करीब 10,000 पैंफलेट अखबारों के साथ बांटे गए हैं। 

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ की सीमा से लगे मध्य प्रदेश के अनूपपुर में पेट्रोल और डीजल के दाम काफी ज्यादा हाई हैं। रविवार को यहां पर पेट्रोल 121.49 रुपए और डीजल 110.66 रुपए प्रति लीटर बेचा गया। सीमावर्ती जिलों के कई पेट्रोल पंप मालिकों ने इस बात की शिकायत की है कि लोग छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र से पेट्रोल-डीजल ला रहे हैं। इसके चलते उनका बिजनेस प्रभावित हो रहा है।