अभी तक आपने शादी में लोगों को दहेज में कार-बाइक और पैसों की जैसी चीजों की डिमांड करते हुए देखा या सुना होगा। लेकिन बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के कुंडवा चैनपुर थाना क्षेत्र के खरूहा गांव में एक पति इसलिए जानवर बन गया क्योंकि उसे दहेज में भैंस नहीं दी गई। इस दहेज लोभी को भैंस न मिलने की बात इतनी नागवार गुजरी की उसने रविवार रात अपनी पत्नी की चाकू से गोदकर हत्या कर दी। मृतका की पहचान 24 साल की अमृता कुमारी के तौर पर की गई कुंडवा चैनपुर निवासी नन्हक सिंह की बेटी थी।

यह भी पढ़ें : सबसे पुराने कृषि उत्सव 'पोंग्टु' पर राज्यपाल ने दी अरुणाचल को बधाई, दिया ये संदेश

खबर है कि अमृता की शादी 4 वर्ष पूर्व कुंडवा चैनपुर थाना क्षेत्र के खरूहा निवासी बैद्यनाथ सिह के पुत्र दरोगा सिंह से हुई थी। मृतका अमृता की दो बेटी और एक बेटा है। सभी बच्चे अभी छोटे-छोटे हैं। सुबह किसी पड़ोसी द्वारा सूचना पाकर नन्हक सिंह जब बेटी के ससुराल पहुंचे तो वहां कमरे में बेटी का क्षत-विक्षत शव देखकर उनके पैरों तले की जमीन खिसक गई। 

यह भी पढ़ें : कर्नाटक और मणिपुर के बाद कांग्रेस का उत्तराखंड में बड़ा फेरबदल, इस नेता को बनाया अध्यक्ष

मृतका के बच्चे शव के पास बैठकर रो रहे थे। इस वारदात में महिला को चाकू से गर्दन और पेट पर गोदा गया था। घटना के बाद से ही सभी आरोपी घर छोड़कर फरार हैं। कुंडवा चैनपुर पुलिस घटना की सूचना पाकर घटनास्थल पहुंची और शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। घटना की पुष्टि करते हुए थानाध्यक्ष रमण कुमार ने बताया कि मृतका के पिता के बयान पर प्राथमिकी दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।