उच्चतम न्यायालय ने बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराये जाने का बुधवार को आदेश दिया। सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने कहा अब जो सच होगा वह बाहर आ जाएगा। उन्होंने कहा बिहार पुलिस की जांच से बहुत लोगों को डर था, उनकी छटपटाहट का कारण था कि कहीं उनकी पोल न खुल जाए। पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए गुप्तेश्वर पांडे ने कहा कि रिया चक्रवर्ती की इतनी औकात नहीं है कि वह बिहार के मुख्यमंत्री पर कमेंट करें।

उन्होंने कहा कि हम लोगों पर आरोप लगाए जा रहे थे कि आपने क्यों केस किया। हमें अनुसंधान करने नहीं दिया जा रहा था। हमने अपने आईपीएस अफसर को भेजा तो उसे कैदी की तरह रात 12 बजे क्वारंटीन कर दिया गया। उसी से लग रहा था कि कुछ ना कुछ गड़बड़ है। हमने जो भी काम किया वह कानूनी और संवैधानिक रूप से सही किया। सुप्रीम कोर्ट ने इसपर मुहर लगा दी है। मैं लोगों से अपील करता हूं कि वे धीरज के साथ इंतजार करें।

केस का नतीजा आने में कितना समय लगेगा, इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि केस की प्रकृति और उसके अनुसंधान के हिसाब से उसे सुलझा में समय लगता है लेकिन यह एक बेहद हाईप्रोफाइल मामला है और  पूरे देश की निगाहें इस पर टिकी हुई है, इसलिए उम्मीद की जा रही है कि इसे कम समय में ही निपटाया जाएगा। गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के मुहर के बाद पूरे देश को पता चला कि बिहार पुलिस कुछ गलत नहीं कर रही थी। कुछ लोगों को बेचैनी ओर छटपटाहट थी कि कहीं उनकी पोल ना खुल जाए, इसलिए उन्होंने इसे प्रभावित करने की कोशिश की।