श्रीनगर। कश्मीर घाटी में हाल के दिनों में हिंदुओं और गैर-स्थानीय नागरिकों की लक्षित हत्या की घटनाओं में इजाफा होने के बावजूद बड़ी संख्या में कश्मीरी पंडित मंगलवार को गंदेरबाल जिले के तुलमुल्ला में स्थित माता खीर भवानी के मंदिर में आयोजित महोत्सव में शामिल होने के लिए पहुंचे। प्रशासन ने यह जानकारी दी। 

गैर-प्रवासी पंडितों के एक समूह कश्मीरी पंडित संघर्ष समिति (केपीएसएस) ने हालांकि, आरोप लगाया है कि सरकार इस उत्सव के साथ घाटी में स्थिति सामान्य होने की बात कह रही है, लेकिन सच्चाई इससे काफी अलग है। केपीएसएस ने ट्वीट कर कहा, 'कश्मीर में लक्षित हत्या और कश्मीरियों के घाटी छोड़कर जाने के बीच खीर भवानी मेला प्रशासन के लिए एक अहम मुद्दा बन गया है।'

यह भी पढ़ें-  मुख्यमंत्री बीरेन सिंह ने GPS सक्षम हाईवे पेट्रोल का किया शुभारंभ

केपीएसएस ने घाटी में प्रशासन को फटकार लगाते हुए कहा कि दुनिया को यह दिखाने में उनकी हताशा साफ तौर पर झलकती है कि कश्मीर में स्थिति सामान्य है और पंडितों को नुकसान पहुंचना उनकी सफलता की श्रेणी में एक अप्रासंगिक मुद्दा है। केपीएसएस के मुताबिक, 'सत्तारूढ़ दल कश्मीरी पंडितों को खीर भवानी लाने की कोशिश कर रहा है। इसे रद्द किए जाने के अनुरोध के बावजूद जम्मू में विभिन्न स्थानों पर जेकेआरटीसी के दर्जनों वाहन कतारबद्ध हैं।'

संगठन ने एक वीडियो शेयर करते हुए कहा, 'प्रशासन यह दावा करने की कोशिश में जुटा हुआ है कि कश्मीरी पंडित खीर भवानी मंदिर में हैं, लेकिन वीडियो में कुछ अलग ही दिख रहा है।' इस बीच, जिला प्रशासन ने खीर भवानी में श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की है। इस मेले का आयोजन हर साल 'ज्येष्ठ अष्टमी' के अवसर पर किया जाता है, जो इस साल बुधवार को पड़ा है। 

यह भी पढ़ें-  Tripura By-elections 2022 के लिए कांग्रेस ने मैदान में कई स्टार प्रचारक

कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मेले पर पिछले दो सालों से प्रतिबंध लगा था। मंदिर ट्रस्ट के प्रबंधक बसंत राजदान ने यूनीवार्ता से कहा कि कल रात करीब 1,500 कश्मीरी पंडित तुलमुल्ला पहुंचकर देवी खीर भवानी की पूजा की। उन्होंने कहा कि ट्रस्ट के द्वारा रात में यात्रियों के ठहरने की व्यवस्था की गई है। मंगलवार शाम को अधिक श्रद्धालुओं के यहां जुटने की संभावना है। 

उन्होंने यह भी कहा कि स्थानीय मुसलमान भी हर बात की तरह यहां स्टॉल वगैरह लगाए हुए हैं, जिनमें फूल, दूध और पूजा की अन्य सामग्रियों की बिक्री की जा रही है। राजदान कहते हैं, 'इस दौरान कुछ बदमाश अपने नापाक मंसूबों को अंजाम देने के लिए कुछ न कुछ गलत करने की कोशिश करेंगे, लेकिन हम उनके इरादों को कामयाब नहीं होने देंगे।'