अरुणाचल प्रदेश से संदिग्ध नागरिकों को खोज निकालने के लिए बंदरदेवा में आज से तलाशी अभियान शुरू हो गया है । अरुणाचल प्रदेश में ऑपरेशन क्लीन ड्राइव अभियान के समय राज्य से खदेड़े गए लोगों को बंदरदेवा में सीमा सुरक्षा विभाग द्वारा तलाशी ली जा रही है । 

बंदरदेवा के 2 नंबर पबरतीपुर पुलिस थाने  में सीमा सुरक्षा विभाग द्वारा तलाशी केंद्र अस्थायी रूप से स्थापित कर तलाशी अभियान चलाया जा रहा है । अरुणाचल से बाहर आए सभी लोगों  के दस्तावेजों  की जांच करने के बाद उन्हें छोड़ा जा रहा है । मजे की बात है कि सीमा सुरक्षा विभाग द्वारा स्थापित केंद्र में खबरें लिखे जाने तक सिर्फ 110  लोगों की तलाशी ली गई है । 

खबर है कि तीन हजार से अधिक लोगों को अरुणाचल से बाहर किया जा चुका हैँ। प्राप्त जानकारी के अनुसार अरुणाचल में असमिया तथा बाहर से आए प्रवासी लोगों के पास सही दस्तावेज होने के बावजूद अरुणाचल छात्र संघ के सदस्य द्वारा दुर्व्यवहार करने की बात सामने आ रही है। असम में एनअारसी के प्रकाशन के बाद भी लोग इतने भयभीत नहीं हुए, जितने की आज है। छात्र संघ के इस आचरण से यहां  रह रहे असम के लोगों में काफी नाराजगी है। 

उधर अरुणाचल प्रशासन के साथ बातचीत के बाद छात्र संघ ने अरुणाचल में अपना अभियान स्थगित कर दिया है । संघ जरूरत पड़ने पर फिर से अभियान 23 अगस्त से शुरू करने की चेतावनी दी है। उधर अरुणाचल छात्र संघ पर अरुणाचल प्रशासन ने बंगाल ईस्टर्न रेगुलेशन एक्ट 1873 को भंग करने का  आरोप लगाया है। आपसु  ने भी राज्य सरकार तथा गृह विभाग पर लापरवाही  बरतने का आरोप लगाते हुए कहा है कि सरकार की कमजोरी के कारण अरुणाचल में इतनी भारी संख्या में अवैध नागरिक रह रहे हैं ।