असम में भाजपा के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार के सामने नई मुसीबत खड़ी हो गई है। राज्य में अलग बोडोलैंड राज्य की मांग फिर से तेज हो गई है। अलग बोडोलैंड की मांग कर रहे विभिन्न संगठनों ने मोदी सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर केन्द्र सरकार 26 अप्रैल तक राजनीतिक स्तर की वार्ता करने में विफल रहती है तो वे उस तारीख को धोखा दिवस के रूप में मनाएंगे। 

संगठनों का कहना है कि वे विरोध में पांच दिन तक राष्ट्रीय राजमार्ग की नाकेबंदी करेंगे। इसके बाद 36 घंटे का चक्का बंद करेंगे। द पीपुल्स ज्वाइंट एक्शन कमेटी फॉर बोडोलैंड मूवमेंट ने कहा है कि वे चाहते हैं कि केन्द्र सरकार 26 अप्रैल तक वार्ता करें क्योंकि केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने यह वादा किया था। संगठन ने कहा कि अगर केन्द्र सरकार अपने वादे को पूरा करने में विफल रहती है तो वे उस तारीख को धोखा दिवस बनाने के लिए मजबूर होंगे।