इस समय सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक युवक की कहानी आपको चौंका सकती है. इस युवक का नाम Ben Francis है. 30 साल की उम्र में अपनी मेहनत और लगन के बल पर ये Gymshark जैसी कंपनी के फाउंडर बन गए हैं. बेन ने 2012 में एक कपड़े की दुकान से शुरुआत की थी. ये दुकान इनके माता-पिता के गैरेज में ही थी. इन्हें भी इस बात का अंदाजा नहीं था कि ये छोटी सी दुकान में बेचे जा रहे कपड़े एक दिन इतने बड़े ब्रांड (Brand) में बदल जाएंगे. 'द सन' में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी जिम में पहनने वाले कपड़े या वर्कआउट (Workout) के दौरान पहनने वाले कपड़े बनाती है.

ये भी पढ़ेंः जेल में बंद 218 मुस्लिम कैदियों ने विधि विधान से नवरात्रि व्रत रख पेश की सांप्रयादिक सौहार्द की मिसाल

बेन पढ़ाई करने के साथ ही पिज्जा डिलीवरी का काम भी किया करते थे. बेन को जिम जाने का शौक था. एक बार जब वो जिम (Gym) जाने के लिए कपड़ों की शॉपिंग करने निकले तो उन्हें कुछ पसंद नहीं आया और उन्होंने अपने कपड़े खुद ही डिजाइन करने का फैसला किया. इस तरह से उन्होंने जब अपने बनाए गए कपडे़ बेचने शुरू किए तो उन्हें मुनाफा (Profit) हुआ और उन्होंने एक कंपनी बनाने का फैसला किया.

यह भी पढ़े :  नहीं देखी होगी ऐसी हिन्दू-मुस्लिम एकता , यहां की दुर्गा पूजा साम्प्रदायिक सौहार्द का संदेश देती है 

ब्रिटेन में Gymshark ने महज कुछ ही सालों में आसमान छू लिया. बता दें कि बेन फ्रांसिस कंपनी में 70% की भागीदारी रखते हैं. 2021 में बेन की संपत्ति 6,000 करोड़ रुपये से भी ज्यादा थी. अमीरों वाली जिंदगी गुजारने वाले बेन के पास कार (Car) और बाइक का भी अच्छा खासा कलेक्शन है.