प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोमवार को कहा कि उसकी टीम ने आम आदमी पार्टी (आप) के निलंबित नेता ताहिर हुसैन को इस साल फरवरी में हुए उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया है। ईडी के एक अधिकारी ने कहा कि एजेंसी ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट 2002 (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत ताहिर हुसैन को गिरफ्तार किया है और दिल्ली की एक अदालत ने आरोपी को छह दिन की कस्टोडियल रिमांड में रखे जाने का आदेश दिया है।

इससे पहले, अधिकारी ने कहा कि हुसैन से दिल्ली दंगों के लिए फंडिंग के बारे में भी पूछताछ की जाएगी।उन्होंने आगे कहा कि उनसे यह भी पूछताछ की जा रही है कि दंगों के लिए धन इकट्ठा करने के लिए वह किस हवाला संचालक के संपर्क में थे। तब्लीगी जमात प्रमुख मौलाना साद के साथ उनके संबंधों के बारे में भी उनसे पूछताछ की जाएगी। ईडी के अधिकारी ने कहा कि हुसैन को एजेंसी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले के तहत गिरफ्तार किया, जहां फरवरी में उत्तर-पूर्व में हुए एंटी सीएए विरोध प्रर्दशन के दौरान हिंसा में उसकी भूमिका पाई गई है।

अधिकारी ने कहा कि पीएमएलए के तहत निर्धारित अपराध में, मामला आईपीसी की कई धाराओं के तहत अपराध शाखा और दयालपुर पुलिस स्टेशन, दिल्ली पुलिस द्वारा दर्ज कई एफआईआर पर आधार पर दर्ज किया गया है। अधिकारी ने कहा कि जांच के दौरान यह पाया गया कि हुसैन और उसके रिश्तेदारों के स्वामित्व या नियंत्रण वाली कंपनियों ने भारी मात्रा में धनराशि को संदिग्ध संस्थाओं में ट्रांसफर किए थे, जो बाद में नकद रुपये के रूप में मिल जाते थे।

अधिकारी ने कहा, ‘‘हुसैन को मिली नकदी का इस्तेमाल सीएए के विरोध प्रदर्शनों और दिल्ली हिंसा को बढ़ावा देने में किया जाता था। पहले भी हुसैन और उनकी कंपनियों की अवैध रूप से मनी लॉन्ड्रिंग में शामिल होने की बात सामने आई थी।’’ पिछले कुछ दिनों में हुसैन को ईडी के अधिकारियों ने तिहाड़ जेल में दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तारी के दौरान पूछताछ किया था। इसके बाद उसे मनी लांड्रिंग मामले में पीएमएलए के तहत गिरफ्तार कर लिया गया।