बिहार और झारखंड को राष्ट्रीय राजधानी से पिछले 24 घंटों में दिल्ली पुलिस ने असम, पश्चिम बंगाल से आई कुल 16 महिलाओं और 4 नाबालिग लड़कियों को बचाया है। दिल्ली पुलिस ने कहा कि पीड़ितों को नौकरी देने के बहाने मानव तस्करों द्वारा लालच दिया गया था। पीड़ितों में से कुछ लोग पिछले तीन महीने से दो कमरे के फ्लैट में रह रहे थे और उन्होंने आरोप लगाया कि उन्हें दबाव में आस-पास के घरों में काम करने के लिए मजबूर किया गया।


दिल्ली पुलिस ने राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) के निर्देश पर दिल्ली स्थित एनजीओ, मिशन मुक्ति फाउंडेशन के सहयोग से छापेमारी की।पुलिस ने कहा कि पीड़ितों को राष्ट्रीय राजधानी में संतोष श्रीवास्तव द्वारा लाया गया था, जिन्होंने एक नामित क्यूआर प्लेसमेंट सेल एजेंसी चलाई थी। पुलिस ने कहा कि वह पिछले तीन वर्षों से एजेंसी चला रहा है। पीड़ितों को आश्रय घरों में भेज दिया गया है। पुलिस अब नाबालिगों के परिवारों से संपर्क कर उन्हें उनके घरों में वापस भेजने की कोशिश कर रही है।