दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे (Delhi-Meerut Expressway) पर मुफ्त सफर अब पुराने जमाने की बात होने वाली है। 25 दिसंबर से एक्सप्रेसवे से होकर गुजरने वाले वाहनों को टोल टैक्स भरना अनिवार्य हो जाएगा। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (Ministry of Road Transport and Highways) ने जानकारी देते हुए बताया है कि 25 दिसंबर मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेसवे पर टोल की दरें लागू कर दी जाएंगी। 

बताया जा रहा है कि फिलहाल टोल प्लाजा पर टोल की दरें फीड करने का कार्य किया जा रहा है। नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने सूचना जारी करते हुए टोल दरों की जानकारी साझा की है। सराय काले खां से मेरठ तक 140 रुपये टोल लगेगा। वहीं, इंदिरापुरम गाजियाबाद से मेरठ तक के लिए 95 रुपये चुकाने होंगे। टोल वसूली करने वाली कंपनी ने इसके लिए अपनी तैयारी पूरी कर ली है।

दरअसल, दिल्ली से मेरठ तक एक्सप्रेसवे पर कुल सात टोल प्लाजा का निर्माण किया गया है। इन टोल प्लाजा के बीच टोल टैक्स भी निर्धारित कर दिया गया है। सबसे पहला टोल प्लाजा सराय काले खां पर बनाया गया है, इसके बाद इंदिरापुर, डूडाहेड़ा, डासना, रसूलपुर, मोदीनगर और अंतिम टोल प्लाजा मेरठ में बनाया गया है। 

इन टोल प्लाजा पर गुजरने वाले सभी वाहनों से निर्धारित टोल टैक्स की वसूली की जाएगी। बता दें कि एक्सप्रेस-वे पर मेरठ से दिल्ली तक हल्के वाहन जैसे कार, जीप आदि को 140 रुपये का टैक्स भरना होगा। वहीं मेरठ से इंदिरापुरम तक 95 रुपये, डूडाहेड़ा तक 75 रुपये, डासना तक 60 रुपये, रसूलपुर तक 45 रुपये और मोदीनगर तक 20 रुपये टैक्स भरना होगा।

कमर्शियल वाहनों से होगी ज्यादा वसूली

वहीं, मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेसवे पर फर्राटा भरने वाले कमर्शियल वाहनों को अधिक टोल देना होगा। हल्के वाहन जैसे कर्मर्शियल कार-जीप को मेरठ से दिल्ली तक के 225 रुपये भरने होंगे। जबकि बस और ट्रक जैसे वाहनों मेरठ से दिल्ली तक 470 रुपये देने होंगे। वहीं, बड़े कमर्शियल वाहनों को मेरठ से दिल्ली के लिए 900 रुपये टोल भरना पड़ेगा।

टोल टैक्स की वसूली के लिए नोटिफिकेशन जारी

एनएचएआई के परियोजना निदेशक अरविंद कुमार ने बताया कि दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर टोल टैक्स की वसूली के लिए नोटिफिकेशन जारी हो चुका है। 25 दिसंबर को सुबह 8 बजे से टोल प्लाजा पर टैक्स लगना शुरू हो जाएगा। उन्होंने बताया कि वाहन चालकों से किलोमीटर के हिसाब से टैक्स भरना होगा। टोल की दरें सार्वजनिक कर दी गई हैं।

महिलाओं के मन की बात

उत्तरप्रदेश में केंद्र व राज्य सरकार की महिलाओं से जुडी योजनाओं का क्या हाल है? क्या इनसे किसी तरह का सामाजिक बदलाव आया है? इस चुनावी माहौल में क्या है उत्तरप्रदेश की महिलाओं/बेटियों के मन में... कुछ सवालों के जवाब के जरिए पत्रिका को भेजें अपनी राय : इस लिंक पर - https://forms.gle/PHsay4TdHhTSUMAF6