दिल्ली में एक सरकारी स्कूल की कक्षा में एक युवक घुस गया और उसने दो लड़कियों का यौन उत्पीड़न किया। इतना ही नहीं, उसने छात्रों के सामने कपड़े उतार कर पेशाब भी किया। इसको लेकर दिल्ली महिला आयोग ने दावा किया कि जब छात्राओं ने इस घटना की जानकारी प्राचार्य और शिक्षक को दी तो उन्होंने उन्हें चुप रहने और भूल जाने के लिए कहा। इस मामले में पुलिस ने पूर्वी दिल्ली नगर निगम (ईडीएमसी) के स्कूल में लड़कियों के यौन उत्पीड़न के संबंध में एक मामला दर्ज किया है। पुलिस ने घटना से संबंधित विस्तृत जानकारी नहीं दी।

यह भी पढ़ें : अरुणाचल पत्रकारों ने की सुरक्षा के लिए सरकार से की विशेष कानून बनाने की मांग

आपको बता दें कि निकाय के स्कूलों में कक्षा पांच तक के छात्र पढ़ते हैं। दिल्ली महिला आयोग ने 30 अप्रैल को जारी नोटिस में कहा कि स्कूल एसेम्ब्ली के बाद छात्र कक्षा में अपने शिक्षक का इंतजार कर रहे थे तभी एक अजनबी कक्षा में घुसा। नोटिस में कहा गया कि कथित तौर पर उसने एक बच्ची के कपड़े उतारे और उससे अश्लील शब्द कहे। इसके बाद वह दूसरी लड़की के पास गया और उसके तथा अपने कपड़े उतारे। इसके बाद आरोपी ने कक्षा का दरवाजा बंद कर दिया और छात्रों के सामने पेशाब की। आयोग ने कहा कि यह एक गंभीर मामला है और इस पर तत्काल कार्रवाई की जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें : मेघालय की खूबसूरती को देखना हुआ आसान, फ्लाईबिग ने शुरू की दिल्ली से शिलांग के लिए उड़ानें

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि उन्होंने यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण कानून (पॉक्सो) के तहत मामला दर्ज किया है और आरोपी को पकड़ने के लिए विशेष दल बनाए गए हैं। आयोग ने पुलिस से प्राथमिकी की एक प्रति तलब की है। इसके अलावा आरोपी का विवरण, पीड़ितों को बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया गया या नहीं और कक्षा शिक्षक तथा प्राचार्य के विरुद्ध कोई कार्रवाई की गई या नहीं आदि जानकारी भी आयोग द्वारा मांगी गई है। दिल्ली महिला आयोग ने छह मई तक जानकारी तलब की है और ईडीएमसी के महापौर से इस मामले पर विस्तृत कार्रवाई रिपोर्ट की मांग की है।