दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली हाईकोर्ट में सोमवार से इस साल के दाखिल केवल अहम मामलों पर ही सुनवाई होगी।  हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस सहित चार जजों के संक्रमित होने के बाद यह फैसला लिया गया। 

हाईकोर्ट ने फैसला लिया है कि 2021 में दाखिल आवश्यक मामलों पर ही सोमवार से सुनवाई होगी।  लंबित या गैर जरूरी मामलों पर फिलहाल सुनवाई नहीं होगी और अगर लंबित किसी मामलों में कोई मामला है, जिसकी तत्काल सुनवाई जरूरी है तो संबंधित पक्ष, अदालत से तत्काल सुनवाई का आग्रह कर सकता हैं। 

कोर्ट की ओर से यह जानकारी रजिस्ट्रार जनरल ने सर्कुलर जारी कर दी है।  आठ अप्रैल से सभी मामलों की सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये की जा रही है।  23 अप्रैल तक इसी तरह से सुनवाई का सिलसिला जारी रहेगा।  फिलहाल सूचीबद्ध सभी मामलों पर सुनवाई बाद में होगी, जिनकी तारीख हालात को देखते हुए तय की जाएगी। 

दिल्ली हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डीएन पटेल भी शनिवार को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। पटेल होम आइसोलेशन में हैं। उनके अलावा हाईकोर्ट के 3 और जजों को भी कोरोना संक्रमित पाया गया था। दिल्ली में जिस तरह हर दिन कोरोना की रफ्तार बढ़ती जा रही है, उसे देखते हुए अदालतों का काम आगे भी वर्चुअल मोड में ही संभव हो पाएगा। 

वकीलों में भी संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं जिसके चलते दिल्ली बार काउंसिल के सारे दफ्तर राजधानी में बंद कर दिए गए हैं।  दिल्ली में पिछले साल मार्च में हुए लॉकडाउन के बाद से ही हाईकोर्ट के सभी कोर्टरूम में नियमित सुनवाई शुरू नहीं हो पाई थी।