कोरोना की दूसरी लहर ने तो पूरे देश में तबाही मचा दी है और वैज्ञानिकों का कहना है कि देश में कोरोना की तीसरी लहर भी आ रही है। तीसरी लहर बच्चों को सबसे ज्यादा अपना शिकार बनाएंगी। कोरोना की दूसरी लहर से बरपा तबाही के दर्दनाक अनुभव के साथ, दिल्ली सरकार ने महामारी की संभावित तीसरी लहर के लिए खुद को तैयार करना शुरू कर दिया है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और कैबिनेट के अन्य सदस्यों ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की. बैठक कोरोना की तीसरी लहर से संभावित ब्रेक आउट से निपटने के लिए एक रोडमैप पर चर्चा करने और तैयार करने के लिए आयोजित की गई थी। दिल्ली सरकार ने बैठक में एक विशेष टास्क फोर्स बनाने का फैसला किया जो बच्चों को घातक वायरस से बचाने के लिए काम करेगी।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सिंगापुर में पाए जाने वाले कोविड-19 के एक नए संस्करण की केंद्र को चेतावनी दी थी और कहा था कि इसका परिणाम भारत की तीसरी लहर हो सकता है। सिंगापुर में आया कोरोना का नया रूप बच्चों के लिए बेहद खतरनाक बताया जा रहा है, भारत में यह तीसरी लहर के रूप में आ सकता है। केंद्र सरकार से मेरी अपील है कि सिंगापुर के साथ हवाई सेवा को तत्काल प्रभाव से रद्द किया जाए और बच्चों के टीकाकरण के विकल्पों को जल्द से जल्द प्राथमिकता दी जाए।