दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर इस बार दीपावली के पर्व पर पटाखे नहीं जलाने की अपील की है। मुख्यमंत्री ने कोरोना काल में प्रदूषण को सेहत के लिए काफी खतरनाक बताते हुए दिल्ली के दो करोड़ लोगों से किसी भी हालत में पटाखे नहीं जलाने की अपील की है।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा, इस बार दीपावली पर हम सभी दिल्लीवासी मिलकर एक साथ लक्ष्मी पूजन करेंगे। मैं अपने सभी मंत्रियों के साथ दीपावली, 14 नवंबर की शाम 7 बजकर 39 मिनट पर लक्ष्मी पूजन करूंगा, जिसका टीवी चैनलों पर सीधा प्रसारण होगा। इस दौरान सभी लोग अपने घरों में टेलीविजन ऑन करके हमारे साथ एक ही स्वर में लक्ष्मी पूजन करें। अगर दिल्ली के दो करोड़ लोग साथ मिल कर एक ही स्वर में लक्ष्मी पूजा करेंगे, तो दिल्ली के हर परिवार में मंगल ही मंगल होगा।

उन्होंने कहा, दिल्ली में प्रदूषण बढ़ रहा है, अगर हम पटाखे जलाते हैं, तो हम अपनी, अपने परिवार और पूरे दिल्ली के लोगों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। दिल्ली में इस वक्त कोरोना और प्रदूषण दोनों का कहर छाया हुआ है। इस स्थिति से निपटने के लिए दिल्ली के लोग और दिल्ली सरकार मिलकर प्रयास कर रहे हैं। प्रदूषण की वजह से कोरोना की स्थिति ज्यादा खराब हो रही है। हर साल इन दिनों में प्रदूषण होता है, क्योंकि पराली जलने का धुआं दिल्ली की तरफ आता है। केजरीवाल ने कहा, दुख की बात यह है कि पिछले कई सालों से पराली जलने से यह प्रदूषण हो रहा है, लेकिन उन सरकारों ने अपने किसानों के लिए कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया। उन राज्यों के किसानों से मेरी बात हुई और किसानों ने कहा कि हम पराली जलाना नहीं चाहते हैं, पराली जलाने से हमारी जमीन के अंदर बैक्टीरिया खराब हो जाते हैं। बैक्टीरिया जल जाने से हमारी मिट्टी कम उपजाऊ होती है, लेकिन हमारे पास इसका समाधान क्या है, हमारी सरकारों ने हमारे लिए कुछ नहीं किया।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, पराली के समाधान के लिए दिल्ली सरकार ने बहुत अच्छा कदम उठाया है। दिल्ली के लोगों और दिल्ली सरकार ने पूसा इंस्टिट्यूट के साथ मिलकर पराली का एक समाधान दिया है कि अब पराली जलाने की जरूरत नहीं है। पूसा इंस्टीट्यूट ने एक केमिकल बनाया है, अगर पराली पर उस केमिकल का छिडक़ाव कर दें, तो करीब 20 दिन के अंदर पराली खाद में बदल जाती है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, पिछली बार हम लोगों ने दीपावली के समय पटाखे नहीं जलाने की सौगंध खाई थी। दीपावली पर पूरी दिल्ली के लोगों ने मिलकर कनॉट प्लेस के अंदर दीपावली मनाई थी। हम लोगों ने वहां पर लाइट शो रखा था और दिल्ली के सभी लोग कनॉट प्लेस आए थे। इस बार भी हम सब लोग मिलकर दीपावली मनाएंगे, लेकिन किसी भी हालत में पटाखे नहीं जलाएंगे।