दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने डीटीसी द्वारा 1,000 लो-फ्लोर बसों की खरीद में कथित भ्रष्टाचार की जांच के लिए सीबीआई को शिकायत भेजने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। एलजी कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक, डीटीसी द्वारा 1000 लो-फ्लोर बसों की खरीद में करप्शन के मामले में शिकायत मिली थी।

ये भी पढ़ेंः मालामाल बना सकता है YouTube का ये फीचर, वीडियो में करना होता है ये छोटा सा काम


इस साल जून में सक्सेना को संबोधित एक शिकायत में दावा किया गया था कि दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) ने पूर्व नियोजित तरीके से परिवहन मंत्री को बसों की टेंडर व खरीद के लिए गठित समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया। शिकायत में यह आरोप भी लगाया गया था कि इस टेंडर के लिए बोली प्रबंधन सलाहकार के रूप में DIMTS की नियुक्ति गलत कामों को सुविधाजनक बनाने के उद्देश्य से की गई थी।

ये भी पढ़ेंः इसबार करवा चौथ पर बन रहे ये शुभ संयोग, जानिए तारीख, पूजा मुहूर्त और विधि


वहीं दिल्ली सरकार का कहना है कि टेंडर रद्द हो गए थे और बसें कभी खरीदी ही नहीं गई। दिल्ली सरकार ने कहा कि दिल्ली को ज्यादा पढ़े लिखे LG की जरूरत है, मौजूदा LG को पता ही नहीं वो किस पर हस्ताक्षर कर रहे हैं। दिल्ली सरकार के बयान के मुताबिक उपराज्यपाल पर खुद गंभीर भ्रष्टाचार के आरोप हैं। ध्यान भटकाने के लिए वह इस तरह की जांच के आदेश दे रहे हैं। इस तरह की जांचों से अब तक कोई नतीजा नहीं निकला है।