मेघालय में केंद्रीय परियोजनाओं के कार्यान्वय में देरी से इनकी लागत में काफी बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। दरअसल मेघालय में लगभग 7000 करोड़ की परियोजनाएं शुरु होनी थी, लेकिन देरी होने के चलते इसकी लागत में 2000 करोड़ की बढ़ोत्तरी हो चुकी है। 

केंद्रीय सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्री डी वी सदानंद गौड़ा ने पिछले दिनों इन परियोजनाओं की समीक्षा की। बैठक के बाद अधिकारी ने कहा कि मेघालय में छह केंद्रीय परियोजनाओं की कुल मूल लागत 7108.02 करोड़ रुपए थी, जबकि पूरा किए जाने की अनुमानित लागत 9,025 करोड़ रुपए रहेगी जो कि लागत में 1916,98 करोड़ रुपए की बढ़ोतरी दिखाती है।

अधिकारी ने कहा कि शिलांग को शेष भारत से जोडऩे के लिए 2021 तक 108 किलोमीटर रेल लाइन बिछाने के लिए 6000 करोड़ रुपए की मंजूरी दी गई थी। हालांकि इसी साल खासी स्टूडेंट्स यूनियन की आगजनी के बाद इस परियोजना को रोक दिया गया। इस आगजनी में करोड़ रुपए मूल्य के भारी निर्माण उपकरणों को नुकसान पहुंचा।