अगर आप भी विदेशी कुत्ता खरीदने की सोच रहे हैं तो सावधान हो जाएं किसी ऐसी फर्जी वेबसाइट के चक्कर में नहीं पड़े जो चूना लगा दे। हाल ही में देहरादून एसटीएफ ने बेंगलुरु से फर्जी वेबसाइट बनाकर विदेशी नस्ल के कुत्ते बेचने के नाम पर ठगी करने वाले एक साइबर अपराधी को गिरफ्तार किया है। आरोपी ने देहरादून की एक महिला से कुत्ते बेचने के नाम पर 66 लाख रुपये की ठगी की थी। महिला की शिकायत पर एसटीएफ ने बेंगलुरु से आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी अफ्रीकी देश कैमरून का रहने वाला है। आरोपी के पास से एसटीएफ ने मोबाइल फोन, लैपटॉप और कैश बरामद किया है।

एसटीएफ (STF) के मुताबिक, साइबर अपराधी ने एक फर्जी वेबसाइट बनाई और उस पर विदेशी नस्ल के कुत्तों की तस्वीरें बेचने के लिए डाली। आरोपी कुत्ते बेचने के नाम पर लोगों से हजारों रुपये ठगते थे। इन पैसों को अलग-अलग राज्यों के बैंक अकाउंट में मंगाते थे और बेंगलुरु के एटीएम से निकालते थे। इसी गलती की वजह से आरोपी एसटीएफ की गिरफ्त में आ गया।

दरअसल, कुछ दिन पहले देहरादून में साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन में आरती रावत नाम की एक महिला ने शिकायत दर्ज कराई। महिला ने बताया कि उसने अपनी बेटी को जन्मदिन पर तोहफे में देने के लिए एक वेबसाइट से गोल्ड रिट्रीवर कुत्ता खरीदा। आरोपियों ने कुत्ते के ट्रांसपोर्ट और इंश्योरेंस के नाम पर महिला से 66,39,600 रुपये ठग लिए। उसके बावजूद महिला को कुत्ता नहीं मिला।

महिला की शिकायत के बाद जब एसटीएफ ने छानबीन शुरू की तो पता चला कि आरोपी बॉबी इब्राहिम ने महिला से त्रिपुरा और महाराष्ट्र के अलग-अलग बैंक खातों में रकम मंगवाई थी और बेंगलुरु के एक एटीएम से उस रकम को निकाल रहा था। ये भी सामने आया कि आरोपी फर्जी आईडी कार्ड के आधार पर मोबाइल नंबर और बैंक खाता चला रहा था।

पुलिस को जब पता चला कि बेंगलुरु के एटीएम से रकम निकाली जा रही है तो एसटीएफ की टीम बेंगलुरु पहुंची और 15 दिन तक वहां छानबीन की और CCTV फुटेज के आधार पर बॉबी इब्राहिम को गिरफ्तार कर लिया। बॉबी इब्राहिम अफ्रीकी देश कैमरून का रहने वाला है।

पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 120बी और आईटी एक्ट की धारा 66(डी) के तहत केस दर्ज कर लिया है। आरोपी के पास से पुलिस ने 4 मोबाइल फोन, 1 लैपटॉप, 5 सिम कार्ड, 3 एटीएम कार्ड और 36,620 रुपये नकद जब्त किए हैं। इसके अलावा उसके एक बैंक अकाउंट में जमा 13 लाख रुपये सीज कर दिए हैं।