रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लद्दाख के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। रक्षा मंत्री आज चीन सीमा को जोड़ने वाली सड़कों पर नवनिर्मित चार पुलों का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लोकार्पण करेंगे। इनमें एक स्पान पुल, जबकि तीन बैली ब्रिज शामिल हैं। इन पुलों के निर्माण के बाद भारतीय सेना की चीन की सीमा तक पहुंच आसान हो जाएगी। साथ ही स्थानीय लोगों को भी आवागमन में सुविधा मिलेगी। 

बीआरओ के हीरक परियोजना के चीफ इंजीनियर एमएनवी प्रसाद ने बताया कि जौलजीबी-मुनस्यारी सड़क पर जौनालीगाड़ में 6.5 करोड़ की लागत से 70 मीटर लंबे स्पान पुल का निर्माण किया गया है। तवाघाट-घटियाबगड़ मार्ग पर जुंतीगाड़ में 140 फीट ट्रिपल सिंगल रीइंसफोस्र्ड बैली ब्रिज, जौलजीबी-मुनस्यारी सडक़ पर किरकुटिया नाला पर 180 फीट डबल-डबल रीइंसफोस्र्ड बैली ब्रिज और मुनस्यारी-बोगडियार-मिलम मोटर मार्ग पर लास्पा नाले पर 140 फीट डबल-डबल रीइंसफोस्र्ड बैली ब्रिज का निर्माण किया गया है। जिनका शुभारंभ आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह करेंगे।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार रक्षा मंत्री चीन के साथ चल रहे गतिरोध के बीच पूर्वी लद्दाख में भारत की परिचालन तत्परता की व्यापक समीक्षा करेंगे। संवेदनशील क्षेत्र की उनकी यात्रा भारत और चीन द्वारा पिछले साल मई की शुरुआत में शुरू हुए लंबे सैन्य गतिरोध को हल करने के लिए नए दौर की राजनयिक वार्ता के दो दिन बाद हो रही है।