अजान के वक्त हनुमान चालीसा पर रोक लगाने वाले नासिक के पुलिस कमिश्नर का ट्रांसफर कर दिया गया है। इसी के साथ ही महाराष्ट्र सरकार ने पुलिस विभाग ने बड़ा फेरबदल करते हुए 40 सीनियर पुलिस अफसरों का तबादला या प्रमोशन किया है। इस लिस्ट में नासिक पुलिस कमिश्नर दीपक पांडेय का नाम भी शामिल है। दीपक पांडेय का नाम हाल ही में उस वक्त चर्चा में आया था, जब उन्होंने नासिक में मस्जिदों के 100 मीटर के दायरे में अजान से 15 मिनट पहले और बाद में लाउड स्पीकर पर कोई भी धार्मिक भजन और गाने न बजाने का आदेश दिया था। 

यह भी पढ़ें : लद्दाख से अरुणाचल तक घुसपैठ करने की कोशिश में लगा चीन, हाई अलर्ट पर हुई सेना और ITBP

इतना ही नहीं दीपक पांडेय ने हाल ही में पत्र लिखकर आरोप लगाया था कि भू-माफिया का गैंग राजस्व अधिकारियों की मदद से आम आदमी को परेशान कर रहा है। हालांकि, इस लेटर के सार्वजनिक होने के बाद वे सरकार के निशाने पर आ गए थे। 

पांडेय की जगह अब जयंत नायकनवरे नासिक पुलिस कमिश्नर होंगे। वे अभी डिप्टी आईजीपी (वीआईपी सिक्योरिटी) थे। वहीं, नासिक पुलिस कमिश्नर दीपक पांडेय को स्पेशल आईजी बनाकर भेजा गया है। राजस्व अधिकारियों के खिलाफ पत्र को सार्वजनिक करने को लेकर महाराष्ट्र सरकार में राजस्व मंत्री बालासाहेब थोराट ने उनकी आलोचना की थी।

यह भी पढ़ें : बढ़ते कोरोना मामलों पर मिजोरम को केंद्र ने किया अलर्ट, आ चुके हैं इतने सारे केस

महाराष्ट्र में इन दिनों लाउड स्पीकर को लेकर बवाल मचा है। दरअसल, हाल ही में एमएनएस चीफ राज ठाकरे ने मांग की थी कि महाराष्ट्र की मस्जिदों से 3 मई तक लाउड स्पीकर हटाए जाएं, या फिर मस्जिदों के सामने लाउड स्पीकर पर हनुमान चालीसा बजाई जाएगी। पांडेय ने मार्च में डीजीपी को पत्र लिखकर उनका तबादला नासिक शहर से बाहर करने की मांग की थी। इतना ही नहीं उन्होंने राज्य पुलिस के मुखिया को पत्र लिखकर राजस्व विभाग के अधिकारियों पर सवाल उठाए थे।