पूर्वी लद्दाख में अब चीन की सेना को भारतीय सेना की तरफ से हर हरकत पर तुरंत जवाब दिया जाएगा। दरअसल, नेशनल बोर्ड ऑफ वाइल्ड लाइफ ने चीन बॉर्डर तक एक और सड़क बनाने की हरी झंडी दे दी है। यह सड़क लद्दाख के सासेर ला को सासेर ब्रंग्सा से जोड़ेगी। इकॉनमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट बताती है कि यह सड़क दौलत बेग ओल्डी हाईवे के लिए एक वैकल्पिक मार्ग की तरह होगी।

यह भी पढ़ें : अरूणाचल प्रदेश ने सबको चौंकाया, पेट्रोल और डीजल पर सिर्फ इतना सा टैक्स लेती है सरकार

सामरिक और रणनीतिक तौर से महत्वपूर्ण यह सड़क काराकोरम वाइल्ड लाइफ सैंक्चुअरी से होकर गुजरेगी। 55 हेक्टेयर वाले इस सैंक्चुअरी में वाइल्ड लाइफ की रक्षा करते हुए सड़क का निर्माण किया जाएगा। रिपोर्ट के मुताबिक वाइल्ड लाइफ बोर्ड ने 25 मार्च को सड़क निर्माण के लिए इस शर्त पर मंजूरी दी है कि सालाना अनुपालन रिपोर्ट जमा की जाएगी।

एप्रोच रोड सासेर ला के पास ऑल वेदर टनल कनेक्टिविटी के लिए महत्वपूर्ण है। नया रोड दौलत बेग ओल्डी के पास ही है जो कि 2020 से जारी भारत-चीन बॉर्डर गतिरोध के प्रमुख कारणों में से एक रहा है जो कि चीन बॉर्डर के करीब है। रिपोर्ट के मुताबिक नए रोड के बन जाने से भारतीय सेना को एक और वैकल्पिक सड़क का रास्ता मिला जाएगा जिससे सैन्य रसद पहुंचाने में और आसानी होगी।

यह भी पढ़ें : सिक्किम में प्रतिकूल परिस्थितियों से बचने के लिए काम शुरू, नामची DC ने बुलाई मानसून की तैयारी की बैठक

पर्यावरण मंत्रालय राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए सीमा सड़कों के लिए हरित मानदंडों को आसान बनाने के अलावा, विशेष रूप से भारत-चीन सीमा पर रणनीतिक प्रोजेक्ट्स को मंजूरी दे रहा है। दौलत बेग ओल्डी क्षेत्र, देपसांग के मैदान और काराकोरम दर्रे तक पहुंचने के लिए वैकल्पिक दृष्टिकोण के रूप में 30 किलोमीटर का रोड विकसित किया जा रहा है। अभी तक सिर्फ 255 किमी लंबी दरबुक-श्योक-डीबीओ सड़क के जरिए ही उस इलाके तक पहुंचा जा सकता है, जो कि अतिसंवेदनशील है।