नई दिल्ली। भारत में पिछले छह सालों में प्रति व्यक्ति प्रति माह डाटा की खपत में 100 गुना से भी अधिक की वृद्धि हुयी है और यह वृद्धि रिलायंस जियो की वजह से हुयी है। ट्राई के मुताबिक, जियो के लॉन्च से पहले हर भारतीय ग्राहक एक महीने में मात्र 154 एमबी डाटा इस्तेमाल किया करता था। अब डाटा खपत का आंकड़ा 100 गुना बढ़कर 15.8 जीबी प्रतिमाह प्रतिग्राहक के आश्चर्यजनक स्तर पर जा पहुंचा है। वहीं जियो यूजर्स हर महीने करीब 20 जीबी डाटा इस्तेमाल करते हैं जो इंडस्ट्री के आंकड़े से काफी अधिक है। भारत की दिग्गज कंपनी रिलायंस ने छह साल पहले जियो को लॉन्च किया था। उधर, रिलायंस इंडस्टीज के अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने दीवाली तक 5जी लॉन्च की घोषणा कर दी है। 

ये भी पढ़ेंः TMC नेता चिटफंड धोखाधड़ी मामले में गिरफ्तार, 80 लाख रुपये नकद, पांच कारतूस के साथ बन्दूक बरामद

कयास लगाए जा रहे हैं कि 5जी लॉन्च के बाद डाटा खपत में खासा उछाल देखने को मिल सकता है। हालिया जारी एरिक्सन मोबिलिटी रिपोर्ट में अनुमान में बताया गया है कि 5जी आने के बाद डाटा खपत अगले तीन साल में 2 गुना से भी अधिक बढ़ जाएगी। जानकारों का मानना है कि 5जी तकनीक की हाई परफॉर्मेंस और हाई स्पीड की बदौलत नए उद्योग धंधे पनपेंगे जो बड़ी संख्या में यूजर्स को अपनी तरफ आकर्षित करेंगे। साथ ही वीडियो की मांग में भी तेज वृद्धि संभव है, जिससे डाटा की मांग और भी बढ़ेगी। रिलायंस जियो का रिकॉर्ड 4जी तकनीक और स्पीड में शानदार रहा है। अब 5जी को लेकर भी कंपनी के बड़े प्लान सामने आ रहे हैं। कनेक्टिड ड्रोन, कनेक्टिड एंबुलेंस- अस्पताल, कनेक्टिड खेत-खलिहान, कनेक्टिड स्कूल-कॉलेज, ईकॉमर्स ईज,अविश्वसनीय स्पीड पर-एंटरटेनमेंट, रोबोटिक्स, क्लाउड पीसी, इमर्सिव टेक्नोलॉजी के साथ वर्चुअल थिंग्स जैसी तकनीकों में कंपनी महारथ हासिल कर रही है। 

ये भी पढ़ेंः मुख्यमंत्री योगी को अपनी समस्याएं बताने पहुंची महिला को लिया गया हिरासत में, जानिए पूरा मामला

जियो देश की ही नही दुनिया की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनियों में शुमार हो जाएगी। आज जियो भारत में 41 करोड़ 30 लाख मोबाइल तथा करीब 70 लाख जियोफाइबर ग्राहकों के साथ 36 फीसदी बाजार के हिस्से पर काबिज है। रेवेन्यू के मामले में इसका हिस्सा 40.3 प्रतिशत है। जियो की स्वदेशी 5जी तकनीक की बदौलत, आने वाले वक्त में क्या बदलाव आएंगे या आ सकते हैं, इसकी तस्वीर कंपनी के पिछले 6 सालों की उपलब्धियों में दिखाई देती है। रिलायंस जियो भारतीय डिजिटल इकॉनमी की रीढ़ बना हुआ है। सरकारी प्रयासों से हासिल जागरूकता और जियो के सस्ते डाटा ने डिजिटल इकॉनमी में जान फूंक दी है। जियो के लॉन्च के वक्त यानी सितंबर 21016 में यूपीआई की मार्फत केवल 32.64 करोड़ का ट्रांजैक्शन होता था। अगस्त 2022 आते आते इसमें भारी इजाफा देखने को मिला आज यूपीआई से 10.72 लाख करोड़ का ट्रांजैक्शन होता है। वजह साफ है, पिछले 6 सालों में न केवल ब्रॉडबैंड सब्सक्राइबर 19.23 करोड़ (2016) से बढ़कर करीब 80 करोड़ (जून 2022) हो गए वहीं औसत इंटरनेट स्पीड भी 5गुना बढ़कर 5.6 एमबीपीएस (मार्च 2016) से 23.16 एमबीपीएस (अप्रैल 2022) जा पहुंची।