कोरोना में की रूप लेकर हमला कर रहा है। कोरोना की इस महामारी में अब ब्लैक फंगस ने  दस्तक दी है, जिसमें कोरोना ने तहलका मचा दिया है। फंगल संक्रमण का कहर भारत के कई राज्यों सामने आया है। ब्लैक फंगस आने के बाद केंद्र सरकार ने प्रभावित राज्यों से इसे महामारी घोषित करने का फैसला लिया है। कोरोना आंख नाक और मुंह से शरीर में प्रवेश करता है। यह भी आंखों से प्रवेश करता और आंखों को ही खा जाता है।


‘ब्लैक इंफेक्शन’ का इलाज खोजा नहीं गया इससे पहले ‘वाइट फंगस’ ने भी दस्तक दे दी है। डॉक्टर्स द्वारा बताया जा रहा है कि नया वाइट फंगस ब्लैक फंगस से भी ज्यादा खतरनाक है। क्योंकि वाइट फंगस केवल एक अंग नहीं, बल्कि फेफड़ों और ब्रेन से लेकर हर अंग पर हमला करता है। इसी के साथ यह नाखून, स्किन, पेट, किडनी, ब्रेन, प्राइवेट पार्ट और मुंह के साथ फेफड़ों को संक्रमित कर सकता है।


ध्यान दें
जरूरी नहीं है कि जो इस फंगस से संक्रमित हो वो कोरोना का भी शिकार हो। कोरोना मरीजों में ही यह हमला नहीं करता है बल्कि यह खुद ही फैलता है। फंगस के लक्षण कोरोना से लगभग मिलते-जुलते होते हैं, जैसे सांस फूलना या कई बार सीने में दर्द. इसके अलावा कई दूसरे लक्षण भी दिखते हैं। जब इसका शरीर पर हमला होता है तो सिर में तेज दर्द के साथ उल्टियां होती और बॉडी पेन रहती है। धीरे धीरे यह दिमाग तक पहुंच जाता है जिससे इंसान पागल होता जाता है।