कर्नाटक के कोप्पल जिले के हनुमासागर के पास मियापुरा गांव में एक दलित लड़के के माता-पिता पर 23,000 रुपये का जुर्माना इसलिए लगाया गया, क्योंकि उनका 2 साल का बेटा हनुमान मंदिर में भगवान का आशीर्वाद लेने के लिए चला गया। बच्चे को उसके पिता उसके जन्मदिन पर हनुमान मंदिर ले गए थे। चूंकि यहां दलितों को मंदिर के अंदर जाने की अनुमति नहीं है, वे हमेशा बाहर से मंदिर के सामने खड़े होकर प्रार्थना करते थे।

पिता अपने बेटे के साथ बाहर से भगवान से प्रार्थना करना चाहता था। हालांकि, उत्साह में बच्चा भागकर मंदिर के अंदर चला गया और भगवान से प्रार्थना की और वापस आ गया। घटना 4 सितंबर की है। इस घटना के बाद यह एक बड़ा मुद्दा बन गया और ऊंची जाति के ग्रामीणों ने मंदिर में दलित लडक़े के प्रवेश के बाद अपवित्र मान लिया। उन्होंने 11 सितंबर को एक बैठक की और माता-पिता से 23,000 रुपये का जुर्माना भरने को कहा है, जिसका इस्तेमाल मंदिर में शुद्धिकरण के लिए किया जाएगा।

हालांकि, जिला प्रशासन को इस घटना की जानकारी होने पर पुलिस, राजस्व और समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों को गांव भेज दिया गया है। अधिकारियों ने सभी ग्रामीणों के लिए भेदभाव के संबंध में जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया है। अधिकारियों ने दलित लडक़े के माता-पिता पर जुर्माना लगाने के लिए ऊंची जाति के सदस्यों को काम सौंपा और चेतावनी दी कि अगर वे ऐसा दोहराते हैं तो कानूनी कार्रवाई शुरू की जाएगी। कोप्पल के पुलिस अधीक्षक टी. श्रीधर ने बताया कि उन्होंने घटनास्थल का दौरा किया। दोषियों को चेतावनी दी गई है। उन्होंने लडक़े के पिता से माफी मांगी है। हालांकि पुलिस पीडि़ता को शिकायत दर्ज कराने के लिए मनाने के लिए उसके घर गई, लेकिन समुदाय के बुर्जुगों ने ऐसा नहीं करने का फैसला किया, क्योंकि इससे दुश्मनी पैदा होगी। उन्होंने बताया, ऊंची जाति के लोगों ने स्वयं अपने समुदाय के सदस्यों की कार्रवाई का विरोध किया और दलित लडक़े के परिवार से माफी मांगी है।