कोरोना महामारी के चलते केंद्र सरकार की ओर से सरकारी कर्मचारियों को मिलने वाले डीए (DA) का लाभ पिछले साल जनवरी माह से रोक दिया गया था। मगर जुलाई से इसे दोबारा शुरू किया जाएगा। साथ ही इसमें बढ़ोत्तरी किए जाने की भी उम्मीद है। ऐसे में माना जा रहा है कि डीए 17 प्रतिशत से बढ़कर 28 फीसदी हो सकता है। इससे 50 लाख से अधिक कर्मचारियों और 65 लाख से अधिक पेंशनर्स को फायदा मिलेगा।

मालूम हो कि हाल ही में वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने राज्य सभा में एक लिखित जवाब में बताया था कि 1 जुलाई से केंद्र सरकार के सभी कर्मचारियों को डीए का पूर्ण लाभ ​मिलेगा। इसमें उन्हें जनवरी से जून 2021 तक के लिए फ्रीज किए गए डीए के साथ इसमें हुई बढ़ोत्तरी का भी लाभ मिलेगा।

AICPI (ऑल इंडिया कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स) के ताजा आंकड़ों के अनुसार जनवरी से जून 2021 की अवधि के लिए कम से कम 4 फीसदी डीए बढ़ोतरी की उम्मीद की जा सकती है। इसके अलावा, जनवरी से जून 2020 के लिए 3 प्रतिशत डीए और जुलाई से दिसंबर 2020 के लिए घोषित 4 प्रतिशत डीए को भी केंद्र सरकार के कर्मचारियों के मौजूदा डीए में जोड़े जाने की उम्मीद है, जो वर्तमान में 17 प्रतिशत है। बता दें कि पिछले साल यूनियन कैबिनेट में भी डीए में 4 प्रतिशत वृद्धि पर सहमति जताई गई थी।

कोरोना महामारी के चलते केंद्र सरकार ने 1 जनवरी 2020 से 1 जुलाई 2020 और 1 जनवरी 2021 तक डीए को फ्रीज कर दिया था। ऐसे में जुलाई से दोबारा इन्हें दिए जाने पर सरकारी कर्मचारियों एवं पेंशनर्स को इन तीन किश्तों का पेमेंट मिलेगा। अभी वर्तमान में कर्मचारियों और पेंशनर्स को 17 प्रतिशत के हिसाब से डीए मिल रहा है। वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के हिसाब से डीए फ्रीज कर सरकार ने 37,430.08 करोड़ से ज्यादा की बचत की थी, जिसे कोरोना महामारी से लड़ने में उपयोग किया गया।