क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) इस समय बुलंदियों के नए आसमान छू रही है। इस समय क्रिप्टोकरेंसी का मार्केट 190 ट्रिलियन रुपये का हो गया है। लेकिन Cryptocurrency  के नाम पर एक ऐसा फ्रॉड भी हुआ है जिसको लेकर हर कोई हैरान है। यह फ्रॉड एक महिला ने किया है। खुद को क्रिप्टोकरेंसी की महारानी बताने वाली इस महिला ने दुनियाभर के लोगों को सपने दिखाए और 30,000 करोड़ रुपये के फ्रॉड कर दिया।

यह महिला बुल्गारिया की रहने वाली थी जिसका नाम रुजा इग्नातोवा है और वो पेशे से डॉक्टर थीं। बिटक्वॉइन (Bitcoin) की सफलता को देखने के बाद रुजा ने वनक्वॉइन लॉन्च किया। रुजा का दावा था कि एक समय में वनक्वॉइन दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी हो जाएगी और लोग इससे कई गुना मुनाफा कमाएंगे।

लेकिन OneCoin कंपनी ने दुनियाभर में करीब 30,000 करोड़ रुपये के फ्रॉड को अंजाम दिया। इससे जुड़े कुछ मामले की सुनवाई अभी चल रही है। एक केस में फ्लोरिडा के डेविड पाइक ने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया है।

Cryptocurrency OneCoin scam के लिए 2016 में वनक्वॉइन को लेकर रुजा इग्नातोवा ने लंदन से लेकर दुबई समेत कई देशों में सेमिनार किए। वो हर सेमिनार में कहती थी कि एक दिन वनक्वॉइन बिटक्वॉइन को पीछे छोड़ देगा। इसमें अगस्त 2014 से मार्च 2017 के बीच दुनिया भर के कई देशों से क़रीब चार अरब यूरो का निवेश वनक्वॉइन में हो चुका था।

रुजा लगातार सेमिनार करती जा रही थीं और निवेश की रफ्तार तेजी से बढ़ रहा था। खास बात है कि लोगों ने केवल रुजा की बातों में आकर निवेश किया, वरना वनक्वॉइन के पास वह ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी ही नहीं थी, जिस पर बिटक्वॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी काम करती हैं। रुजा ने वनक्वॉइन को ब्लॉकचेन से जोड़ने की कोशिश की, लेकिन वह नाकाम रहीं।

इसके बाद रुजा आजतक नहीं मिली और वो लापता हो गईं। यानी वह क्रिप्टोरानी गायब हो गई, जिसने हजारों-लाखों निवेशकों को रातों-रात अमीर बनाने का सपना दिखाया था।