केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफान ‘यास’ से निपटने के लिए ओडिशा, आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों के साथ तैयारियों का जायजा लिया। शाह ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बैठक की और चक्रवात ‘यास’ के मद्देनजर तैयारियों की समीक्षा के लिए अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के उपराज्यपाल से भी बातचीत की।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के राष्ट्रीय मौसम पूवार्नुमान केंद्र ने कहा कि इसके उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर धीरे-धीरे आगे बढऩे, अगले 24 घंटों के दौरान एक गंभीर चक्रवाती तूफान और बाद के 24 घंटों के दौरान एक बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है। आईएमडी ने कहा, चक्रवात उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढऩा जारी रखेगा, और तेज होगा और 26 मई की सुबह तक उत्तर ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों के पास बंगाल की उत्तर-पश्चिमी खाड़ी तक पहुंच जाएगा।

बहुत भीषण चक्रवाती तूफान के रूप में इसके 26 मई दोपहर के आसपास पारादीप और सागर द्वीपों के बीच उत्तर ओडिशा-पश्चिम बंगाल के तटों को पार करने की बहुत संभावना है। इसके अलावा, अगले तीन दिनों के दौरान राजस्थान, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली और उत्तर प्रदेश में तेज सतह या धूल भरी हवाएं (25-35 किमी प्रति घंटे) की रफ्तार से चलने की संभावना है।