चक्रवाती तूफान ताऊ ते ने 17 मई को मुंबई में जोरदार तबाही मचाई। करीब 60-75 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार के साथ तेज आंधी में कई पेड़ टूट गए और कुछ घरों को नुकसान पहुंचा। सड़क पर यातायात बाधित हो गया लेकिन किसी के हताहत होने की खबर सामने नहीं आई है। 17 मई की तड़के सुबह से मुंबई में हवाओं के साथ बारिश शुरू हुई। शहर के 'गेट वे ऑफ इंडिया' के आसपास समंदर में ऊंची लहरे उठ रही हैं। मौसम विभाग ने मुंबई के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। 17 मई को शहर में कुछ जगहों पर तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हो सकती है।

17 मई की सुबह तक, शहर में 8.37 मिमी बारिश दर्ज की गई थी। पूर्वी उपनगरों में 6.53 मिमी और पश्चिमी उपनगरों में 3.92मिमी बारिश दर्ज की गई। इसने मौसम को काफी हद तक ठंडा कर दिया था, क्योंकि मुंबई का पारा 30-40 डिग्री तक छू रहा था। मुंबई एयरपोर्ट को सुबह 11 बजे से दोपहर 2 बजे तक के लिए बंद कर दिया गया है। सुबह 8:15 पर चेन्नई से मुंबई आने वाली फ्लाइट को सूरत एयरपोर्ट डाइवर्ट किया गया था।

‘काफी गंभीर’ ताऊ ते तूफान के मुंबई के तट से गुजरात की तरफ गुजरने का अनुमान है। इसकी वजह से शहर के पश्चिमी उपनगरों में NDRF की तीन टीमें तैनात की गई हैं। खबर के मुताबिक, नेवी की टीमें भी स्टैंडबाई पर रखी गई हैं। मौसम विभाग ने कहा है कि महाराष्ट्र के कई जिलों में हवाओं की रफ्तार 75-85kmph पहुंच सकती है। मुंबई, ठाणे, रायगढ़, पालघर और रत्नागिरी में अगले कुछ घंटों में भारी बारिश होने के आसार हैं।

ताऊ ते रविवार 16 मई को महाराष्ट्र के तट पर पहुंच गया था, जिससे कई पेड़ और बिजली के खंभे उखड़ गए और अन्य मामूली क्षति हुई, लेकिन किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने स्थिति की निगरानी के लिए शीर्ष अधिकारियों के साथ कई बैठकें कीं और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को राज्य की तैयारियों से भी अवगत कराया। ठाकरे ने शाह को बताया, "पूरे तटीय क्षेत्र के सभी जिलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है।"

एहतियाती कदम में भारतीय तटरक्षक बल ने लगभग 5,600 नावों की सुरक्षित वापसी सुनिश्चित की, जो अरब सागर में मछली पकड़ने के लिए गई थीं।  NDRF, SDRF, महाराष्ट्र पुलिस, फायर ब्रिगेड, तटरक्षक बल, भारतीय नौसेना और अन्य एजेंसियों की टीमें किसी भी घटना से निपटने के लिए पूरे तटीय क्षेत्र में हाई अलर्ट पर हैं।