लाल टमाटर देख इन दिनों लोग गुस्से से लाल हो रहे हैं। टमाटर की कीमतों में अचानक 15 से 20 रुपए प्रति किलों का दर बढ़ गए हैं। 

यदि ऐसे ही टमाटर की कीमतों में बढ़तरी होती रही तो लोग टमाटर खरीदने से कतराने लगेंगे। शिलॉन्ग के थोक बाजार में टमाटर पचास रुपए प्रति किलो बिक रहा, जबकि खुदरा सब्जी दुकानों पर इसमें दस ससे 15 रुपए और बढ़ जाते हैं।

40 रुपए प्रति किलो भी टमाटर बाजार में है, परंतु आधा सड़ा-गला है। जैसा कि टमाटर की कीमतों में बढ़ोतरी होने के पीछे पड़ोसी राज्य असम में बाढ़ होना बताया जा रहा है। क्योंकि टमाटर असम से भी आता है।

हालांकि मेघालय में भी टमाटर की खेती होती है। जो बाहरी राज्य से आयतित टमाटर के दाम के मुकाबले थोड़ा सस्ता है। मांग के हिसाब से इसकी आपूर्ति कम है। नतीजतन टमाटर के दाम सुन अब लोग गुस्से से लाल हो रहे हैं।

जो टमाटर थोक बाजार में 30 से 35 रुपए किलों मिल जाता था अचानक पचास रुपए किलों हो जाना आम लोगों के लिए चिंता वाली बात है।