जम्मू कश्मीर में हो रही टारगेट किलिंग पर एक्शन लेते हुए में केंद्र सरकार ने CRPF के 7500 अतिरिक्त जवान तैनान करने का निर्णय लिया है। इसके तहत गृह मंत्रालय वहां CRPF की 5 अतिरिक्त कंपनियां भेज रहा है। इससे अब राज्य में सुरक्षाबलों की कुल 55 कंपनियां हो जाएंगी।

इससे पहले जम्मू कश्मीर में बीएसएफ की 25 और सीआरपीएफ की 25 कंपनियां तैनात थीं। अब यह फैसला गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में सुरक्षा को लेकर हुई उच्च स्तरीय बैठक में लिया गया है। शाह ने अक्टूबर के आखिरी में जम्मू कश्मीर का दौरा किया था। राज्य से आर्टिकल 370 हटने के बाद यह शाह का पहला दौरा था।

आतंकी राज्य में पिछले 48 घंटे में 2 हत्याओं, जिसमें एक पुलिसकर्मी भी शामिल है, के बाद सीआरपीएफ ने 5 कंपनियां तैनात करने का फैसला किया है। ये तैनाती एक हफ्ते में पूरी की जा रही है।

अक्टूबर के बाद से अब तक कश्मीर घाटी में 15 नागरिकों की हत्या की गई है। इनमें कुछ गैर कश्मीरी भी शामिल हैं। हाल ही में पिस्टल्स से टारगेट किलिंग के मामलों में इजाफा हुआ है। इनमें से ज्यादातर जवानों की तैनाती श्रीनगर में की जाएगी, जहां नागरिकों की हत्या के ज्यादा मामले सामने आए हैं।

श्रीनगर में हर दिन 15000 लोगों और 8000 वाहनों की हर रोज चेकिंग की जा रही है। इस दौरान सीसीटीवी, ड्रोन समेत तमाम तकनीकियों का भी सहारा लिया जा रहा है। जिन जगहों पर अल्पसंख्यक और गैर कश्मीरी लोग रहते हैं, वहां चेकिंग ज्यादा की जा रही है।