यूएई और ओमान में 17 अक्टूबर से आयोजित होने जा रहे मेंस टी20 वर्ल्ड कप (Men’s T20 World Cup 2021) में पहली बार डिसीजन रिव्यू सिस्टम यानी DRS का यूज किया जा रहा है। आईसीसी ने टूर्नामेंट के लिए जो प्लेइंग कंडीशन जारी की है, उसमें डीआरएस के इस्तेमाल (DRS In T20 World Cup) की मंजूरी दे दी है। हर पारी में दोनों हीं टीमों को DRS के तहत अधिकतम दो रिव्यू के मौके मिलेंगे। दोनों टीमों के कप्तान के पास पारी के दौरान 2 बार फील्ड अंपायर के फैसले को चुनौती देने का अधिकार होगा। यदि रिव्यू लेने पर टीवी अंपायर फैसला बदलता है, तो डीआरएस बरकरार रहेगा। फैसला हक में ना रहने की सूरत में कप्तान डीआरएस गंवा देगा।

आईसीसी के इस फैसले के बाद टी20 और वनडे की एक पारी में हर टीम को दो और टेस्ट की हर पारी में दोनों टीमों को असफल रिव्यू के 3 मौके दिए जा रहे हैं।


यह भी पढ़ें—  मोदी सरकार बेटियों को दे रही 2000 रूपये महीना! जानिए ये मैसेज फर्जी या सही


आईसीसी ने देरी और बारिश से बाधित मैचों के लिए न्यूनतम ओवर (Minimum Over Rate Rule) की संख्या बढ़ाने का भी फैसला किया है। टी20 विश्व कप के ग्रुप स्टेज के दौरान हर टीम को डकवर्थ लुईस मैथेड से नतीजा तय करने के लिए कम से कम पांच ओवर बल्लेबाजी करनी होगी। वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय टी20 क्रिकेट में यही नियम लागू है। हालांकि लेकिन सेमीफाइनल और फाइनल अगर बारिश से बाधित होता है तो ओवर की संख्या बढ़ जाएगी।

तब हर टीम को कम से कम 10 ओवर तक बल्लेबाजी करने की आवश्यकता होगी, जैसा पिछले साल महिला टी20 विश्व कप के दौरान हुआ था। हालांकि, तब इंग्लैंड और भारत के बीच सिडनी में होने वाले पहले सेमीफाइनल के बारिश में धुलने के बाद इस नियम को लेकर काफी चर्चा हुई थी। क्योंकि तब रिजर्व-डे नहीं होने के कारण इंग्लैंड टूर्नामेंट से बाहर हो गया था।