कोरोना वायरस एक फिर से आतंक मचाना शुरू कर दिया है। लगातारा कोरोना के केस देश में बढ़ते ही जा रहे हैं। हाल ही में स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी एक बयान में बताया गया है कि देश में अभी 1.68 लाख कोरोना के मामले दर्ज किए गए हैं और 900 से ज्यादा कोरोना से लोगों की मौतें हो गई है। वैज्ञानिक और डॉक्टर्स लगातार इस महामारी से बच निकलने के उपाय ढ़ूंढ़ रहे हैं।

 

वैसे  तो वैक्सीन दुनिया में मौजूद है लेकिन फिर भी कोरोना खत्म होने के नाम नहीं ले रहा है। लोगों की लापरवाही से ही कोरोना ज्यादा फैल रहा है। दूसरी ओर कोरोना को खत्म करने के लिए वैज्ञानिक आए दिन नए-नए शोध कर रहे हैं। जैसे कि हम जानते हैं कि मुख्य रूप से एक वायरल संक्रामक बीमारी है, जो एक बीमार व्यक्ति के खांसने, छींकने या छूने से फैलती है।

 

कोरोना के सामान्य लक्षणों में बुखार, खांसी, गले में खराश, कभी-कभी सिरदर्द और थकान शामिल हैं। कोरोना सबसे पहले शरीर के जिन अंगों को प्रभवित करता है वह हैं नाक और मुंह। इसी तरह से कोरोना व्यक्ति की जीभ को प्रभावित करता है। जिसकी वजह से रोगी की जीभ की सतह पर जलन और सूजन महसूस होती है। मतलब की कोरोना अटैक हो चुका है।


 

दूसरा यह कि जीभ का रंग बदल-बदला सा लगे और मुंह में जलन और सूजन हैं तो कोरोना के लक्षण हैं। इसी के साथ  होंठ और जीभ में झुनझुनी हो सकती है। जीभ पर सफेद पैच आने से भी कोरोना का डर रहता है। होंठों का ड्राई और पपड़ीनुमा महसूस होने से कोरोना हमला हो सकता है।