दुनियाभर में कोरोना को हराने के लिए वैक्सीनेशन का महाअभियान जारी है। शुरूआत में लोग वैक्सीन लगवाने से कतरा रहे थे, लेकिन जैसे-जैसे वैक्सीनेशन का अभियान सफलता की ओर बढ़े जा रहा है, वैसे ही कोविड टीके के प्रति लोगों का विश्वास भी बढ़ता जा रहा है। 

वैक्सीन को लेकर कई तरह की अफवाहें और झूठे दावे किए गए लेकिन अंत में हर जगह टीकाकरण अभियान शुरू हो गया, लेकिन अभी भी कुछ लोग ऐसे हैं जो वैक्सीन को लेकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं और टीका ना लगवाने की सलाह दे रहे हैं। हाल ही में ईरान के एक पादरी आयतुल्लाह अब्बास तबरीजियन ने सोशल मीडिया पर ये दावा किया है कि कोविड-19 वैक्सीन से लोग समलैंगिक बन जाते हैं। तबरीजियन ने पोस्ट जारी करते हुए लिखा है कि उन लोगों के पास मत जाइए, जिन्होंने कोरोना का टीका लगवा लिया है, ऐसे लोग समलैंगिक बन गए हैं।

वहीं पादरी के इस बयान की आलोचना भी शुरू हो गई है। प्रख्यात एलजीबीटीक्यू कैंपेनर पीटर टेशेल का कहना है कि यह बयान टीका और समलैंगिक समुदाय दोनों को नीचा दिखा रहा है। इस विवादित पादरी ने पहले भी पश्चिमी दवाइयों पर कई तरह के दावे किए हुए हैं।