साल 2019 में मिस इंग्लैंड का ताज जीतने वाली भारतीय मूल की 24 वर्षीय सुंदरी भाषा मुखर्जी ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में शामिल होने का फैसला किया है। भाषा हाल ही चैरिटी दौरेसे ब्रिटेन वापसलोट आई हैं। 

खुद को 14 दिन सेल्फ-आइसोलेशन में रखने के बाद वे फिर से एक जूनियर डॉक्टर के रूप में अपनी सेवाएं देना शुरू कर देंगी। भाषा मुखर्जी भारतीय मूल की एक ब्रिटिश डॉक्टर और मॉडल हैं जिन्हें बीते साल मिस इंग्लैंड चुना गया था। भाषा ने नॉटिंघम विश्वविद्यालय से अपनी पढ़ाई पूरी की है। उन्होंने 2019 में हुए मिस वल्र्ड प्रतियोगिता मेंभी भाग लिया था और शीर्ष 40 प्रतिभागियों में भी शामिल रहीं। वे रेस्पिरेटरी डिजीज में विशेषज्ञ हैं। उन्होंने कहा कि जब आपके आसपास लोग संक्रमण से मर रहे हों तो एक डॉक्टर होने के नाते मैं घर पर नहीं बैठ सकती।

वे पूर्वी इंग्लैंड स्थित बोस्टन में एक अस्पताल में काम करती है। कोवेन्ट्री मरकिया लायंस क्लब की ओर से एक सामुदायिक चैरिटी के लिए मार्च की शुरुआत में भाष्कर मुखर्जी भारत यात्रा पर थीं। उन्होंने यहां कई स्कूलों का दौरा किया और अध्यन सामग्री कावितरण किया। साथ ही बेघर लड़कियों के लिए चलाए जा रहे अनाथलयों की भी आर्थिक मदद की। वह अफ्रीका, तुर्की, पाकिस्तान और कई अन्य एशियाई देशों का दौरा कर चुकी हैं।