महाराष्ट में कोरोना की स्थिति फिर बिगड़ती जा रही है। पुणे में एक बार फिर लॉकडाउन जैसे हालात बन गए हैं। पुणे के डिविजन कमिशनर ने रविवार को कहा कि जिले में रात 11 बजे से 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा। इस दौरान सिर्फ जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को ही आने-जाने की अनुमति होगी। जिले के सभी स्कूल-कॉलेज 28 फरवरी तक बंद कर दिए हैं। नई गाइडलाइन सोमवार से लागू होगी।

वहीं महाराष्ट्र सरकार में मंत्री विजय वडेट्टीवार ने कहा है कि नागपुर, अमरावती, यवतमाल जैसे जिलों में बढ़ते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार इन जिलों में रात कर्फ्यू लगाने पर विचार कर रही है। इस पर फैसला लेने के लिए जल्द मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में बैठक होगी। बता दें, महाराष्ट्र के इन जिलों में कोरोना के नए केस तेजी से बढ़े हैं। मुंबई में भी मुंबई महानगरपालिका ने सख्ती शुरू कर दी है। बीती रात कुछ रेस्त्रां और क्लब पर छापे मारे गए जहां कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं हो रहा था।

बता दें कि वैज्ञानिकों ने अपने ताजा अध्ययन में एक और चिंताजनक खुलासा किया है। विज्ञानियों ने बताया है कि भारत में कोरोना के 5000 से अधिक स्वरूप यानी वैरिएंट पाए गए हैं। वैज्ञानिकों ने बताया है कि मास्क और दो गज की शारीरिक दूरी ही वायरस के प्रसार को कम करने का सबसे प्रभावी तरीका है। अध्ययन में बताया गया है कि कोई भी वायरस प्राकृतिक तौर पर म्यूटेट करते हैं यानी अपनी संरचना में बदलाव करते हैं। आमतौर पर वायरस में महीने में एक या दो बदलाव होता है। कोरोना वायरस में भी ऐसा हो रहा है। यह अध्ययन वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) के कोशिका एवं आणविक जीव विज्ञान केंद्र (सीसीएमबी) के विज्ञानियों ने किया है।