इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने सोमवार को जारी अपने अध्ययन में दावा किया है कि घरेलू रूप से विकसित कोवैक्सिन डेल्टा प्लस वैरिएंट के खिलाफ प्रभावी है। कोवैक्सीन को भारत बायोटेक द्वारा आईसीएमआर और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पुणे के सहयोग से विकसित किया गया है। अध्ययन में कहा गया है कि पूरी तरह से प्रतिरक्षित (2 खुराक के साथ) व्यक्तियों के सीरा ने डेल्टा, डेल्टा एवाई.1 और बी.1.617.3 के खिलाफ एनएबी टिटर में महत्वपूर्ण गुना-कमी नहीं दिखाई।

डेल्टा प्लस वैरिएंट का एक उत्परिवर्तित रूप है और इसे पहली बार भारत में खोजा गया था। यह बढ़ी हुई संप्रेषणीयता और स्पाइक प्रोटीन उत्परिवर्तन की विशेषता है। अध्ययन इंगित करता है कि डेल्टा वैरिएंट अपने विशिष्ट स्पाइक प्रोटीन उत्परिवर्तन के साथ चार उप-वंशों में एक अतिरिक्त उत्परिवर्तन के साथ उत्परिवर्तित हो गया है जो उच्च संचरण और संभावित प्रतिरक्षा भागने से जुड़े हैं। पिछले हफ्ते, केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री जितेंद्र सिंह ने पिछले हफ्ते संसद को सूचित किया था कि डेल्टा प्लस वैरिएंट के 70 मामले आईएनएसएसीओजी जीनोम अनुक्रमण में शामिल 28 प्रयोगशालाओं के एक समूह द्वारा पाए गए थे।

अन्य दो टीकों - कोविशील्ड और रूस के स्पुतनिक के साथ कोवैक्सिन ने वायरस के खिलाफ भारत के बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान के लिए तीनों का गठन किया है। शोध में आगे कहा गया है कि कोविड -19 देशी टीकों की तुलना में टीकाकरण और सफलता के मामलों में बी.1 वैरिएंट के खिलाफ एनएबी टिटर में उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई। इसी तरह, एनएबी टिटर में भी उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई।

डेल्टा के खिलाफ दो समूह, डेल्टा एवाई.1 और बी.1.617.3 वेरिएंट। यह संक्रमण के बाद या टीकाकरण के बाद संक्रमण के साथ प्रतिरक्षा बढ़ाने में स्मृति कोशिकाओं की संभावित भूमिका को प्रदर्शित करता है। सभी समूहों के तुलनात्मक विश£ेषण से पता चला है कि बी.1.617.3 वैरिएंट डेल्टा एवाई.1 के बाद तटस्थता के लिए कम संवेदनशील प्रतीत होता है। प्रभावकारिता विश£ेषण पर किए गए अध्ययन से पता चलता है कि कोवैक्सिन गंभीर रोगसूचक कोविड-19 मामलों के खिलाफ 93.4 प्रतिशत प्रभावी है और स्पर्शोन्मुख कोविड -19 के खिलाफ 63.6 प्रतिशत सुरक्षा प्रदान करता है।