शादी का झांसा देकर रेप की शिकायत करना आम बात है। ऐसी घटनाओं की शिकायत आए दिन थानों में मिलती है। खासकर अगर कोई बालिग है और वह अपनी इच्छा से शादी की बात करते हुए यौन संबंध बनाता है तो क्या वह बलात्कार कहा जाएगा।

यह भी पढ़े : Petrol Diesel Price : पेट्रोल-डीजल के दाम में 10 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी!, यहां बिक रहा है सबसे सस्ता तेल


नयी दिल्ली, दिल्ली उच्च न्यायालय ने कहा है कि शादी का सच्चा वादा कर यदि यौन संबंध बनाया जाता है और बाद में किसी कारण से शादी नहीं हो पाती तो इसे बलात्कार नहीं कहा जा सकता।

यह भी पढ़े : Navratri Ashtami 2022: जानिए इस बार चैत्र नवरात्रि की अष्टमी कब है , शुभ मुहूर्त व कन्या पूजन का सही समय 


अदालत ने यह टिप्पणी एक मामले की सुनवाई के दौरान की जिसमें एक व्यक्ति और एक महिला लंबे समय तक संबंध में थे और उनकी सगाई भी हो गई थी, लेकिन किसी कारण से शादी नहीं हो सकी तथा रिश्ता टूट गया।

यह भी पढ़े : नवरात्रि में मां कालरात्रि के इस मंत्र का करें जाप, हो जाएगा सभी दुष्टों का विनाश , पढ़े मां कालरात्रि की आरती


न्यायमूर्ति सुब्रमण्यम प्रसाद ने निचली अदालत के उस फैसले को खारिज कर दिया जिसके तहत भारतीय दंड संहिता की धारा 376 (2) (एन) के अंतर्गत व्यक्ति पर महिला को शादी का झांसा देकर उसका बलात्कार करने का आरोप तय किया गया था।