देश में कोरोना संक्रमण में गिरावट देखने को मिली है लेकिन कोरोना से मरने वालों की संख्या में कमी नहीं आई है। कोरोना कहर खामोशी से बरपा रहा है। देश में मौतों के आंकड़े अब भी डराने वाले हैं। केंद्रीय स्वाास्य्को  मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबकि देश में सिर्फ 2 फीसदी आबादी ही कोरोना वायरस संक्रमित हैं। इसके मुताबिक 98 फीसदी आबादी अब भी खतरे में है।


यह आंकड़े देखने के बाद अंदाजा लगाया जा सकता है कि देश किन हालतों से गुजर रहा है।  स्वांस्य् ब  मंत्रालय ने जानकारी देते हुए कहा कि दूसरे देशों में कोरोना से प्रभावित जनसंख्यार की हिस्सेडदारी काफी अधिक है, लेकिन भारत इसे कम रखने में सफल रहा है। स्वाास्य्े   मंत्रालय के ज्वासइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने कहा कि अधिक संख्यार में कोरोना संक्रमण के मामले सामने आने के बावजूद हमने संक्रमण को सिर्फ 2 फीसदी आबादी तक ही सीमित रहने दिया है।

विशेषज्ञों ने कहा कि सरकार ने नेशनल सीरो सर्वे के नतीजों को नजरअंदाज किया है, जिसमें कहा गया था कि देश की करीब 20 फीसदी आबादी कोरोना संक्रमण से प्रभावित हो चुकी है। इंडियन काउंसिल ऑफ इंडिया (ICMR) की ओर से किए गए सीरोलॉजिकल सर्वे में कहा गया था कि देश की 21.4 फीसदी युवा आबादी पिछले साल दिसंबर के मध्यॉ तक कोरोना की चपेट में आ चुकी थी। देश में एक दिन में कोविड-19 से 4,529 और लोगों की मौत के बाद देश में संक्रमण से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 2,83,248 हो गई है।