एक्सपर्ट्स ने चेतावनी दी है कि भारत में ठंड और प्रदूषण के कारण अब कोरोना वायरस और अधिक खतरनाक होने वाला है। डॉक्टरों और वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि हवा की बिगड़ती गुणवत्ता कोविड-19 की समस्याओं को और भी बदतर बना सकती हैं। इसका सबसे ज्यादा असत राजधानी दिल्ली में देखने को मिल सकता है।

पिछले कुछ सालों में भारत के कई शहरों में प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ा है और स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि इस तरह की स्थिति मस्तिष्क क्षति और श्वास संबंधी समस्याओं का कारण बन सकती हैं। प्रदूषित हवा में सांस लेने के कारण लोगों के फेफड़े पहले से कमजोर होते हैं, ऐसे में कोरोना का हमला जानलेवा साबित हो सकता है।

आने वाले कुछ हफ्तों में भारत कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा संक्रमण वाला देश बन सकता है। भारत में अब तक 7.3 मिलियन लोग संक्रमित हो चुके हैं और अमेरिका के 7.9 मिलियन से पीछे है, लेकिन भारत में रोजाना अमेरिका से 10 हजार ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं।