भारत में एकबार फिर से कोरोना विस्फोट हुआ है जिसके तहत पिछले 24 घंटों में सारे रिकॉर्ड टूट गए। कोरोना का सबसे ज्यादा कहर महाराष्ट्र पर टूटा है। यहां पर रिकॉर्ड मामले दर्ज किए गए। महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार 18 मार्च को पिछले 24 घंटे में 25833 नए मामले सामने आए, जो अब तक एक दिन में आए कोविड-19 के सबसे ज्यादा मामले हैं। इसके साथ ही मुंबई में भी अब तक के सबसे ज्यादा केस दर्ज किए गए है और 24 घंटे में कोरोना के 2877 मरीज सामने आए।

महाराष्ट्र में इससे पहले कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मामले पिछले साल 11 सितंबर को दर्ज किए गए थे और 24886 नए मामले सामने आए थे। वहीं मुंबई में इससे पहले सबसे ज्यादा 2848 कोरोना केस 7 अक्टूबर 2020 को दर्ज किए गए थे। महाराष्ट्र में अब तक कोरोना वायरस से 53 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और केंद्र सरकार ने इसे कोरोना की दूसरी लहर की शुरुआत बताया है। इसको लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने हाल ही में केंद्रीय टीम के दौरे के बाद महाराष्ट्र के मुख्य सचिव को एक पत्र लिखा था। केंद्रीय टीम ने बताया था कि महाराष्ट्र कोरोना की दूसरी लहर से गुजर रहा है और संक्रमण रोकने के लिए कारगर उपाय किए जाने जरूरत है। उन्होंने बताया था कि ट्रैकिंग, टेस्टिंग, अलग-अलग मामलों और कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग करना जरूरी है।

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस का रिप्रोडक्शन (प्रजनन) नंबर या आर नंबर 1.34 है। आर नंबर का मतलब है कि एक संक्रमित व्यक्ति औसतन और कितने लोगों को संक्रमित कर सकता है, यानी किसी वायरस में फैलने की कितनी क्षमता है। अगर ये नंबर एक से ज्यादा होती है तो महामारी के बढ़ने की आशंका ज्यादा होती है। अगर यहां कोरोना वायरस के मामलों की संख्या घटानी है तो आर नंबर को 1 से नीचे लाना होगा। महाराष्ट्र में कोविड-19 के मामले नागपुर, औरंगाबाद, अमरावती, ठाणे और मुंबई में गंभीर हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक, बुधवार को पिछले 24 घंटे में देशभर में कुल 35871 कोरोना वायरस के नए मामले रजिस्टर किए गए और 172 लोगों की इस महामारी की वजह से मौत हो गई। देशभर में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 159216 हो गई है, जबकि 1 करोड़ 10 लाख 63 हजार 25 लोग ठीक हो चुके हैं और देशभर में 252364 एक्टिव केस मौजूद हैं।