इस समय दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस का टीका लगाया जा रहा है। लेकिन इजरायल में यह 13 लोगों पर भारी पड़ गया क्योंकि उन्हें लकवा मार गया। इन 13 लोगों को फेशियल पैरालिसिस (आधे चेहरे का लकवा) मार गया। इजरायल के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक इस तरह के साइड इफेक्ट रिपोर्ट की तुलना में काफी अधिक लोगों को हो सकते हैं।

मंत्रालय का कहना है कि कोरोना वैक्सीन की दूसरी खुराक देने को लेकर आशंकित हैं, स्वास्थ्य मंत्रालय भी फेशियल पैरालिसिस ठीक होने के बाद ही दूसरी डोज देने की सलाह दे रहा है। फेशियल पैरालिसिस से पीड़ित ने कहा कि 28 घंटे तक आधे चेहरे का लकवा रहा, बाद में भी यह पूरी तरह से ठीक नहीं हुआ है हालांकि जहां इंजेक्शन लगा उस जगह के अलावा कहीं और दर्द नहीं है।

20 दिसंबर, 2020 को इजरायल ने Covid-19 टीकाकरण अभियान की शुरुआत की। इस अभियान के तहत 60 वर्ष और अधिक आयु के लगभग 72 प्रतिशत लोगों का टीकाकरण हो चुका है। पिछले महीने भी इसी तरह के साइड इफेक्ट की रिपोर्ट आई थी। वैक्सीन ट्रायल के दौरान चार वॉलंटियर्स, जिन्हें फाइजर वैक्सीन शॉट्स दिए गए थे उन्हें भी फेशियल नर्व पैरालिसिस हुआ। इस कारण ब्रिटेन मेडिसिन रेगुलेटर को चेतावनी जारी करनी पड़ी। हाल ही में फाइजर की एमआरएनए आधारित कोरोना वायरस वैक्सीन लगने के तुरंत बाद नॉर्वे में 23 बुजुर्गों की मौत का मामला भी सामने आया था।