पूरे भारत देश में एक मार्च से कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण शुरू हो रहा है। इस दौरान 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। हालांकि 45 साल से ऊपर के ऐसे लोगों को भी वैक्सीन की डोज दी जाएगी जो पहले से किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने उन बीमारियों की लिस्ट जारी की है जिनसें ग्रसित 45 से 59 साल के लोगों को कोरोना वैक्सीन दिए जा सकेंगे। हालांकि ऐसे ऐसे लोगों को बीमारी का मेडिकल सर्टिफिकेट दिखाने पर वैक्सीन दिए जाएंगे।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने 20 बीमारियों को शामिल किया है जिससे बीमार लोगों (45 से 59 साल) को दूसरे चरण में वैक्सीन दिए जाएंगे। इनमें डायबिटीज (शुगर), हाइपरटेंशन, किडनी, लीवर, ल्यूकेमिया, एचआईवी ग्रसित, बोन मेरो फेलियर और हार्ट फेलियर समेत 20 गंभीर बीमारियों को शामिल किया गया है। इसमें कैंसर से पीड़ित लोग भी शामिल किए गए हैं।

कोरोना वैक्सीन की डोज लेने वाले लोगों को अपने साथ एक फोटो आईडी दस्तावेज ले जाना आवश्यक होगा। इनमें आधार कार्ड, वोटर आईडी भी शामिल हैं। इसके अलावा 45 साल से 59 साल से कम उम्र के लोगों को वैक्सीन की खुराक लेने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी गंभीर बीमारी से पीड़ित होने के साक्ष्य भी दिखाने होंगे। यह रजिस्टर्ड डॉक्टर्स की तरफ से प्रमाणित होना चाहिए।

आयुष्मान भारत- PMJAY के अधीन सूचीबद्ध करीब दस हजार अस्पताल और CGHS के अधीन 687 अस्पतालों को सेंटर बनाया गया है।