​कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन के चलते लोन और क्रेडिट कार्ड की EMI चुकाने की तारीखें आगे बढ़ाई जा रही हैं। जी हां, बीते मंगलवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बैंकिंग और टैक्स से जुड़े कुछ ऐसे ऐलान किए हैं जिससे आम लोगों को काफी राहत मिलेगी।
निर्मला सीतारमण ने कहा था कि अर्थव्यवस्था के जिस भी क्षेत्र में दिक्कत होगी, उसे दूर किए जाएंगे। इसकी शुरुआत आज हो चुकी है और आगे और भी घोषणाएं होंगी। इस दौरान निर्मला सीतारमण से बैंक लोन और ईएमआई से जुड़ी राहत के बारे में कहा कि जरूरत पड़ने पर इसको लेकर भी ऐलान किए जाएंगे। वित्त मंत्री के बयान से इस बात की संभावना जताई जा रही है कि लोन या क्रेडिट कार्ड की ईएमआई दे रहे लोगों को तत्काल छूट मिल सकती है।
इसी के साथ ही अगले 3 महीने के लिए ATM से कैश निकालना फ्री कर दिया गया है। मतलब ये कि अगर आप किसी भी बैंक के एटीएम से कैश निकालते हैं तो उस पर कोई चार्ज नहीं लगेगा। इसके साथ ही मिनिमम बैलेंस का झंझट भी खत्म हो गया है। मतलब बैंक अकाउंट में कैश रखने की जरूरत नहीं है। वहीं, वित्त मंत्री ने सभी व्यापार वित्त ग्राहकों के लिये डिजिटल कारोबार सौदे को लेकर बैंक शुल्क कम करने की भी घोषणा की है.डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिये यह कदम उठाया गया है।

इसके अलावा सरकार ने आयकर रिटर्न दाखिल करने और जीएसटी रिटर्न भरने की समय सीमा 30 जून तक बढ़ा दी है। इसी तरह, कंपनियों को ऋण शोधन कार्यवाही से बचाने के लिये आईबीसी नियमों में भी कुछ राहत दी गई है। वहीं, पैन को आधार के साथ जोड़ने की अंतिम तिथि को भी 30 जून तक बढ़ा दिया गया है। यही नहीं, जीएसटी की वार्षिक रिटर्न भरने की अंतिम तिथि में भी बदलाव हुआ है।