कोरोना वायरस के नए वैरिएंट सामने आने से लोगों ने चौथी लहर के आने का अंदेशा लगाना शुरू कर दिया है। कोरोना वायरस के नए वैरिएंट XE ने भी भारत के 2 राज्यों में दस्तक दे दी है। कोरोना की शुरुआत चीन से हुई थी। अगर अब भी चीन की बात की जाए तो वहां पर बहुत बुरी स्थिति है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, चीन में पिछले 24 घंटे में 1500 नए केस सामने आए हैं. इनमें से  शंघाई में 1,189, जिलिन में 233, ग्वांगडोंग में 22, हैनान में 14 और झेजियांग में 12 मामले दर्ज किए गए हैं। एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक चीन में लगातार कोरोना के मामले बढ़ने के कारण दुनिया का सबसे सख्त लॉकडाउन लगाया गया है। 

यह भी पढ़ें : मणिपुर में तोरबंग बाजार से KNA उग्रवादी गिरफ्तार, पिस्तौल की गई जब्त

अब लगातार चीन के वीडियो सामने आ रहे हैं, जहां पर लोगों को खाना और आवश्यक चीजें भी उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। 5 अप्रैल से शहर में पूरी तरह से लॉकडाउन है। COVID-19 के सख्त लॉकडाउन के कारण वहां के लोगों को आवश्यक वस्तुओं तक पहुंचने के लिए भी काफी संघर्ष करना पड़ रहा है। इसी वजह से वहां के लोगों को खाना भी नसीब नहीं हो रहा है।

हाल ही में शंघाई के चांगझौ, जिआंगसु से कुछ फुटेज सामने आई थीं। जहां पर लोगों की भीड़ की जरूरी चीजों के लिए सुरक्षा व्यवस्था को तोड़ती नजर आ रही है। ट्विटर पर इस भीड़ वीडियो शेयर किया गया है, जिसमें लिखा है, "चीन का सबसे बड़े और धनी शहर शंघाई में कोविड लॉकडाउन के तहत खाने के लिए दंगा" कुछ अन्य वीडियो भी शेयर हुए हैं जिनमें मेडिकल सेंटर्स और सुपरमार्केट के आसपास लूट हो रही है।

यह भी पढ़ें : यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम ने पुलिस को दी बड़ी चेतावनी, कहाः गंभीर परिणाम भुगतने होंगे

वहां के लोगों का कहना है कि वे लोग दिन में केवल एक बार भोजन करते हैं। शंघाई में महामारी की स्थिति बिगड़ती जा रही है। अधिकारियों का कहना है शहर अनिश्चित काल के लिए बंद रहेगा। जिसका मतलब है वहां के निवासियों को अपने घरों को छोड़ने की अनुमति नहीं है। वहां के स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि वायरस लोगों को काफी प्रभावित कर सकता है। साथ ही बुजुर्ग और बिना वैक्सीनेशन वाले लोगों को इसका जोखिम अधिक है। शंघाई में 1 मार्च से अब तक 1.30 लाख से अधिक COVID-19 मामले सामने आए हैं।