कोरोना वायरस का नया रूप सामने आने से दुनियाभर में हड़कंप मचा हुआ है। इसकी वजह से कई देशों ने दोबारो लॉकडाउन लगा दिया है। वहीं, कई देशों ने ब्रिटेन से यात्रियों के आने पर पाबंदी लगा दी है। इस बीच विशेषज्ञों ने दावा किया है कि कोरोना का नया रूप युवाओं के लिए ज्यादा खतरनाक साबित हो रहा है।
यूरोपियन सेंटर फॉर डिजिज कंट्रोल के मुताबिक कोरोना का नया स्ट्रेन युवा आयु वर्ग के लिए ज्यादा खतरनाक है। देखा गया है कि कोरोना 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को ज्यादा नुकसान पहुंचा सकता है, लेकिन कोरोना के नए स्ट्रेन से संक्रमण का खतरा युवाओं में ज्यादा है।

दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के नए स्ट्रेन (SARS-CoV-2) के 200 नए मामले सामने आ चुके हैं। साउथ अफ्रीका के स्वास्थ्य मंत्री ज्वेली मखिजे के मुताबिक कोरोना के नए स्ट्रेन के मामले युवाओं में ज्यादा सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा है कि चिकित्सकों ने कोरोना के नए वेरियंट के एंटीडॉट की स्टडी में पाया है कि ये वायरस ज्यादार युवाओं में देखने को मिल रहा है। ये वो लोग हैं जिन्हें पहले से कोई बड़ी बीमारी भी नही है।