कोरोना वायरस की मार टाटा कंपनी के कर्मचारियो पर भी पड़ी है क्योंकि कईयों को छुट्टी पर भेजा गया है। खबर है कि टाटा टेक्नोलॉजी ने अपने कर्मचारियों का एक बड़ा हिस्सा कोरोना वायरस महामारी के चलते खाली बैठा रखा है। कंपनी ने कहा कि करीब 400 कर्मचारियों को पेड लीव पर खाली बैठाया हुआ है और कुछ को बिना सैलरी के छु्ट्टी पर भेज दिया है। टाटा टेक्नोलॉजी के प्रवक्ता ने कहा- बदली हुई परिस्थितियों के हिसाब से हम टाटा टेक्नोलॉजी को एक फुर्तीला, तुरंत एक्शन लेने वाला और फ्लेक्सिबल ऑर्गेनाइजेशन बनाना चाहते हैं। इसी के तहत हमने कुछ एक्शन लिए हैं, जिसमें कुछ कर्मचारियों को बेंच पर बैठाना (खाली बैठाना) भी शामिल है।
कंपनी के अनुसार कर्मचारियों नौकरी बनी रहेगी और उनके परिवार समेत उन्हें साल के अंत तक कंपनी की हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में कवर किया जाएगा। नेशनल इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एंप्लॉई सीनेट (NITES) ने कर्मचारियों की तरफ से पुणे में लेबर कमिश्नर के पास एक शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत में कहा गया है कि कंपनी के खिलाफ लीगल एक्शन लिया जाए।
NITES के जनरल सेक्रेटरी हरप्रीत सलूजा के मुताबिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए कर्मचारियों को 22 जुलाई तक एक ईमेल का जवाब देने के लिए कहा गया था। कंपनी के प्रवक्ता ने कहा है कि बहुत सारे कर्मचारियों ने पेड लीव और अनपेड लीव पर जाने का फैसला किया है, क्योंकि इससे नौकरी चलती रहेगी और साथ ही मेडिक्लेम का फायदा मिलता रहेगा। हालांकि, उसके बाद कंपनी इन्हें निकाल देगी या क्या फैसला लेगी, इस पर अभी कुछ कहा नहीं गया है। कंपनी ने कहा है कि अगर डिमांड फिर से आती है तो कर्मचारियों को वापस बुलाया जाएगा।