ब्राजील में कोरोना का महाविस्फोट हुआ है जिसके तहत सिर्फ 24 घंटे में रिकॉर्ड 3251 लोगों की मौत हो गई है। पिछले कुछ हफ्तों से ब्राजील पूरी दुनिया में प्रतिदिन कोरोना वायरस से हो रही मौत के मामले में शीर्ष पर काबिज है। मंगलवार को ब्राजील में 3251 लोगों की मौत हुई है।

ब्राजील के सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्य साओ पाउलो में 1,021 लोगों की मौत हुई, जो पिछले बार की सर्वाधिक संख्या 713 की तुलना में काफी अधिक है। पिछले साल जुलाई में यहां कोविड-19 से 713 लोगों की मौत हुई थी। महामारी ने ब्राजील की स्वास्थ्य प्रणालियों को लगभग ध्वस्त कर दिया है। अस्पतालों में आईसीयू बेड और ऑक्सीजन के भंडार की कमी है। हाल के दिनों में अधिकतर राज्यों ने गतिविधियों को प्रतिबंधित किया है।

ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो ने महामारी की गंभीरता को तवज्जो न देते हुए कहा है कि अर्थव्यवस्था को चालू रखना चाहिए ताकि उसकी हालत खराब न हो। उन्होंने स्थानीय नेताओं द्वारा उठाए गए स्वास्थ्य संबंधी कदमों की आलोचना भी की। शुक्रवार को, उन्होंने दो राज्यों और ब्राजील के संघीय जिले द्वारा लागू किए गए कर्फ्यू को अमान्य करने के लिए उच्चतम न्यायालय में अपील की। हालांकि शीर्ष अदालत ने पहले फैसला सुनाया था कि गवर्नर और मेयर को इस तरह के प्रतिबंध लगाने का अधिकार है।

जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी की तालिका के अनुसार, ब्राजील में कुल मृतकों की संख्या 3,00,000 के करीब पहुंच गई है, जो कोविड-19 से मौत होने के संबंध में अमेरिका के बाद दुनिया में दूसरे स्थान पर है। मौत और संक्रमण के मामले में अमेरिका अभी भी शीर्ष पर बना हुआ है। जबकि, भारत का स्थान दुनिया में तीसरा है। वैक्सीनेशन के बाद भी संक्रमण की बढ़ती रफ्तार ने दुनिया की चिंता को बढ़ाया है।