एक कंपनी ने ऐसी दवाई तैयार की है जो कोरोना वायरस के रोगी की जान तुरंत बचा सकती है। यह कंपनी एस्ट्राजेनका है जो कोरोना वैक्सीन की शुरुआती सफलता के बाद एक ऐसी एंटीबॉडीज तैयार करके लाई है जो कोरोना संक्रमित लोगों को गंभीर बीमार होने से बचा सकती है। यह एंटीबॉडीज खासकर ऐसे लोगों के लिए काफी फायदेमंद है जिनको वैक्सीन नहीं मिल पाई या फिर जिन्हें किन्हीं वजहों से वैक्सीन नहीं दी जा सकती।
नई एंटीबॉडीज का ट्रायल शुरू कर दिया गया है और यह इस तरह का पहला ट्रायल है। शुरुआत में 10 लोगों को यह एंटीबॉडीज दी गई हैं। ये 10 ऐसे लोग हैं जो बीते 8 दिन में किसी न किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के नजदीक आए थे। इसे कोरोना से बचाव का इमरजेंसी प्रोटेक्शन भी बताया जा रहा है।
ब्रिटेन सरकार की यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन हॉस्पिटल्स ने एस्ट्राजेनका कंपनी की इस एंटीबॉडीज का ट्रायल शुरू किया है। ट्रायल के दौरान यह भी पता लगाने की कोशिश होगी कि क्या दो तरह की एंटीबॉडीज का इस्तेमाल करने पर कोरोना से अधिक सुरक्षा मिलती है।

वैक्सीन लगाए जाने के बाद पूरी तरह इम्यूनिटी डेवलप होने में कई हफ्ते का वक्त लगता है। कोई व्यक्ति अगर पहले ही संक्रमित हो चुका है तो उन्हें वैक्सीन से तुरंत सुरक्षा मिले यह जरूरी नहीं है। उम्मीद की जा रही है कि यह एंटीबॉडीज तुरंत ही कोरोना वायरस को न्यूट्रलाइज कर देगी। इसके साथ ही इससे व्यक्ति एक साल तक कोरोना से सुरक्षित रह सकता है।